‘बेटी पढ़ाओ-बेटी खिलाओ’ नारे के साथ हुआ भारत के पहले ‘हैंडबॉल वूमेन्स पॉवर कप’ का आगाज

डीएन संवाददाता

राजधानी दिल्ली के करनैल सिंह स्टेडियम में ‘बेटी पढ़ाओ, बेटी खिलाओ’ के नारे के साथ भारत के पहले ‘हैंडबॉल वूमेन्स पॉवर कप’ का आगाज हो गया है। 3 दिन तक चलने वाले इस खेल प्रतियोगिता में भारत की छः टीमें पार्टीसिपेट कर रही हैं।

नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली के करनैल सिंह स्टेडियम में ‘बेटी पढ़ाओ, बेटी खिलाओ’ के नारे के साथ भारत के पहले ‘हैंडबॉल वूमेन्स पॉवर कप’ का आगाज हो गया है। 3 दिन तक चलने वाले इस खेल प्रतियोगिता में भारत की छः टीमें पार्टीसिपेट कर रही हैं।

खिलाड़ियों के साथ डॉ. अल्का दास गुप्ता, विराज दास गुप्ता और रेलवे बोर्ड के डीके गोयन

इस तरह के खेल के आयोजन का उद्देश्य आईपीएल, आईसीएल, प्रो कबड्डी लीग की तरह ही हैंडबॉल के खेल को बढ़ावा देना और महिला खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करना है। इस प्रतियोगिता में देश की छः महिला टीमें भाग ले रही हैं जिनमें पहला मैच उत्तर प्रदेश चैलेन्जर और पंजाब केसर के बीच हुआ। 

डॉ अल्का दास रहीं मौजूद

उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करती फेडरेशन की चेयरमैन डॉ. अल्का दास गुप्ता

कार्यक्रम की शुरूआत मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे मेम्बर स्टाफ एंड प्रेसिडेंट आरएसपीबी के डीके गोयन ने हैंडबहाल फेडरेशन ऑफ इंडिया की चेयरमैन डॉ. अल्का दास गुप्ता की उपस्थिति में किया। 

ये भी पढ़ें: पिता डा. अखिलेश दास की राह पर बढ़े पुत्र विराज सागर दास, बने यूपी बैडमिंटन अकादमी के अध्यक्ष

इस दौरान डाइनामाइट न्यूज से बातचीत में हैंडबाल फेडरेशन ऑफ इंडिया की चेयरमैन डॉ. अल्का दास गुप्ता ने कहा कि ‘इस तरह के खेल का आयोजन महिला खेलों को बढ़ावा देना है और फेडरेशन हर प्रकार से महिला खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने का कार्य करेगा। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों का उद्देश्य लड़कियों में उत्साह को जगाना है और ऐसा कोई कार्य नहीं है, जिसे वे कर नहीं सकती हैं। 

खिलाड़ियों के साथ सभी मेहमान

हाल ही में फेडरेशन की चेयरपर्सन बनी डॉ. अल्का दास गुप्ता ने कहा कि वे महिला हैंडबाल को पीबीएल(प्रीमियर बैटमिंटन लीग) की तर्ज पर आगे बढ़ाना चाहती हैं। अगर प्रधानमंत्री के ‘बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ’ के साथ ‘बेटी पढ़ाओ, बेटी खिलाओ’ का साथ भी जुड़ जाए तो यह नारा और भी सार्थक हो जाएगा। उन्होंने इस दौरान चेयरपर्सन के तौर पर महिला हैंडबाल को भी नई उंचाइयों तक ले जाने की प्रतिबद्धता जताई। 

रेलवे ने किया महिला खिलाड़ियों को मदद देने का वादा

खेल प्रतियोगिता के दौरान मुख्य अतिथि के तौर उपस्थित रहे मेम्बर स्टाफ एंड प्रेसिडेंट आरएसपीबी (कार्मिक शाखा) डीके गोयन ने कहा कि रेलवे देश में हर तरह के खिलाड़ियों को बढ़ावा देता आया है और उसका यह कार्य आगे भी जारी रहेगा। रेलवे अपने स्तर पर भी खेल में भाग लेने वाली महिला खिलाड़ियों की मदद करता रहेगा। 

ये भी पढ़ें: विराज सागर दास भारतीय ओलपिंक संघ के यूथ कमीशन के चेयरमैन और उपाध्यक्ष नियुक्त

भारत के पहले ‘हैंडबॉल वूमेन्स पॉवर कप’ को आयोजित करवाने में कान स्पोर्ट वर्ल्ड और हैंडबाल फेडरेशन ऑफ इंडिया का सहयोग अहम रहा। कार्यक्रम में कई प्रदेशों की महिला हैंडबाल खिलाड़ियों के साथ सैकड़ों की संख्या में दर्शक उपस्थित रहे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)