RSS प्रमुख मोहन भागवत का राम राग, मंदिर निर्माण को लेकर बोली ये 5 बड़ी बातें

डीएन ब्यूरो

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर निर्माण को लेकर साफ कह दिया है कि सरकार को किसी भी तरह से राम मंदिर का निर्माण करवाना ही होगा। भागवत का कहना है कि अगर ऐसा नहीं होता है तो हिंदू सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेंगे। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें, RSS प्रमुख ने राम मंदिर निर्माण को लेकर क्या-क्या कहा

विजयदशमी उत्सव में RSS प्रमुख मोहन भागवत
विजयदशमी उत्सव में RSS प्रमुख मोहन भागवत

नई दिल्लीः राष्ट्रीय स्वयंसेवक प्रमुख मोहन भागवत ने विजयदशमी से पहले अपने संबोधन में एक बार फिर राम मंदिर बनाने का आह्वान किया है। 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से ठीक पहले RSS प्रमुख के इस बयान से एक बार फिर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो चली है। 

मोहन भागवत का कहना है कि मंदिर को लेकर जो राजनीति चल रही है उसे तुरंत खत्म कर देना चाहिये। उनका कहना है कि अगर जरूरत पड़े तो सरकार को इसके लिये कानून बनाना चाहिये।     

यह भी पढ़ेंः #MeToo का पहला कोर्ट केस.. जानिये, एमजे अकबर के मामले में आज क्या हुआ अदालत में

  

नागपुर में आरएसएस ने मनाया विजयदशमी उत्सव 

 

बता दें कि कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद से जुड़ी विवादित जमीन के मालिकाना हक को लेकर मामले में सुप्रीम कोर्ट में 29 अक्टूबर से नियमित सुनवाई होगी। वहीं सुनवाई से ठीक 10 दिन पहले इस तरह के बयान से मंदिर विवाद का मसला और गर्मा गया है।      

यह भी पढ़ेंः सबरीमाला मंदिर को लेकर कब-कब हुई राजनीति,भारी बवाल के पीछे कौन है शामिल

 

राम मंदिर निर्माण के लिये आरएसएस नहीं करेगा इंतजार

 

राम मंदिर निर्माण को लेकर मोहन भागवत ने कहीं ये 5 बड़ी बातें   

1. आरएसएस ने वीरवार को संघ मुख्यालय नागपुर में विजयदशमी उत्सव मनाया। इस दौरान राम मंदिर को लेकर संघ प्रमुख भागवत ने साफ किया कि राममंदिर निर्माण को लेकर संघ अब और लंबा इंतजार नहीं करना चाहता।

2. भागवत ने कहा कि राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं बल्कि पूरे देश के हैं। भगवान राम हिंदू-मुस्लिम दोनों के लिये आदर्श हैं।   

यह भी पढ़ेंः महराजगंज: मोहन भागवत का पुतला फूंक रहे कांग्रेस नेताओं और पुलिस में झड़प

 

नागपुर में आरएसएस के कार्यकर्ता पैदल मार्च के दौरान 

 

3. उन्होंने कहा कि संविधान की प्रति में भगवान राम का चित्र है। चाहे इसके लिये कोई भी मार्ग क्यों न निकालना पड़े लेकिन राम मंदिर हर हाल में बनना चाहिये।  

यह भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट: मस्जिद में नमाज का मामला बड़ी बेंच को नहीं, अयोध्या विवाद पर 29 अक्टूबर से सुनवाई

4. संघ प्रमुख राममंदिर निर्माण के साथ ही सबरीमाला मामले में कोर्ट के फैसले के खिलाफ आंदोलन करने वाले लोगों के साथ खड़े होते हुए नजर आये। 

5. इससे साफ संकेत मिल रही हैं कि अगर कोर्ट किसी कारणवश राममंदिर के खिलाफ फैसला देता है तो हिंदू समाज न्यायालय के इस निर्णय के खिलाफ सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेगा।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …