गोरखपुर गोली कांड के पीड़ित के घर सन्नाटा, परिजन खौफजदा, 5 दिन से मौत से लड़ रहा है नाबालिग

जय प्रकाश पाठक/ शिवेन्द्र चतुर्वेदी

गोरखपुर के गैलेंट इस्पात लिमिटेड के मालिक चंद्र प्रकाश अग्रवाल उर्फ चंदू के निजी सुरक्षा कर्मी संदीप के द्वारा निहत्थे नाबालिग के सिर में गोली मारे जाने का मामला थमता नजर नही आ रहा है। लखनऊ में इलाज करा रहे परिजन से लेकर गोरखपुर के पैतृक गांव में परिवार वाले सभी दहशत के साये में जी रहे हैं। वजह है धनवान व्यापारी के इशारे पर पूरे पुलिसिया सिस्टम का काम करना। लखनऊ से लेकर गोरखपुर तक डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..


लखनऊ/गोरखपुर: पांच दिन बाद भी परिजन पीड़ित अरविंद की सेहत को लेकर बुरी तरह परेशान हैं। तीन दिन में पांच अस्पतालों के चक्कर काटने के बाद किसी तरह अरविंद को लखनऊ के अपोलो में भर्ती किया गया। यहां इसका इलाज जारी है। 

यह भी पढ़ें: गोरखपुर: नाबालिग गोलीकांड में गैलेंट इस्पात के मालिक चंद्र प्रकाश अग्रवाल को क्यों बचा रही है पुलिस?

डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता के मुताबिक पीड़ित की एक आंख समाप्त हो चुकी है। 

यह भी पढ़ें: तीन दिन में पांच हास्पिटल, पीजीआई से लेकर सहारा अस्पताल ने नहीं किया गोरखपुर गोलीकांड के पीड़ित को भर्ती, हालत नाजुक 

नाबालिग अरविंद लखनऊ के अस्पताल में जिंदगी और मौत से संघर्ष कर रहा है। जब हमारे संवाददातों की खोजी टीम ने लखनऊ के अस्पताल से लेकर गोरखपुर के घर तक का जायजा लिया तो सिस्टम की बेरहम चेहरे के शिकार पीड़ित के परिजन खौफजदा नजर आय़े। लखनऊ अस्पताल में पुलिस वाले धनवान व्यापारी के गुर्गों के साथ चक्कर दिख रहे हैं तो गांव पर रह-रहकर पुलिस पहुंच रही है और पता कर रही है कि कौन-कौन आया था?

 

यह भी पढ़ें: गोरखपुर: गोलीकांड मामले में गार्ड ने किया सरेंडर, चंद्र प्रकाश अग्रवाल को बचाने का पुलिसिया खेल जारी 

पुलिसिया झूठ और नाकामी के चलते चार दिन बाद भी पुलिस आऱोपी को गिरफ्तार नही कर पायी और कल रात पहले से लिखी स्क्रिप्ट के मुताबिक आऱोपी ने थाने में सरेंडर किया। एक बार भी पुलिस ने यह जहमत नहीं उठायी कि व्यापारी चंदू को बुलाकर थाने में पूछताछ की जाय।

यह भी पढ़ें: कुशीनगर: पूर्व मंत्री राधेश्याम सिंह के भाई घनश्याम सिंह ने गोली मारकर की आत्महत्या

पीड़ित का दिव्यांग पिता संतराज चीख-चीख कर कह रहा है कि गार्ड ने गोली चंदू के ललकारने पर चलायी। अब पुलिसिया दबाव पीड़ित के परिवार पर सिर चढ़कर बोल रहा है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार