तीन दिन में पांच हास्पिटल, पीजीआई से लेकर सहारा अस्पताल ने नहीं किया गोरखपुर गोलीकांड के पीड़ित को भर्ती, हालत नाजुक

जय प्रकाश पाठक

अगर आप गरीब हैं तो पहले आपको गोली मारी जायेगी फिर इलाज के लिए गोरखपुर से लखनऊ तक दौड़ेंगे और पांच-पांच अस्पताल आपको इलाज से मना कर देंगे। किसी को इस बात की फिक्र नही कि इस बीच यदि आपकी जान चली जाय तो क्या होगा? कुछ ऐसा ही दांतो तले अंगुली दबा देने वाला संवेदनहीन मामला देखने को मिला है गोरखपुर के गैंलेट इस्पात लिमिटेड के मालिक चंद्र प्रकाश अग्रवाल उर्फ चंदू के गार्ड संदीप द्वारा 16 साल के लड़के अरविंद चौहान को गोली मार देने के मामले में। डाइनामाइट न्यूज़ एक्सक्लूसिव..

इलाज को पांच-पांच अस्पताल भटका पीड़ित
इलाज को पांच-पांच अस्पताल भटका पीड़ित

लखनऊ: तीन दिन पहले गोरखपुर के रसूखदार व्यापारी और गैंलेट इस्पात लिमिटेड के मालिक चंद्र प्रकाश अग्रवाल उर्फ चंदू के गार्ड संदीप द्वारा 16 साल के लड़के अरविंद चौहान को गोली मार दी गयी। इस गरीब का कसूर सिर्फ इतना था कि क्रिकेट खेलते वक्त वह अग्रवाल के पुराने कारखाने की चहारदीवारी में चला गया था फिर गार्ड ने उसके सिर में गोली मार दी। 

पहले उसे इलाज के लिए गोरखपुर मेडिकल कालेज ले जाया गया फिर उसी रात उसे लखनऊ पीजीआई के लिए रेफर कर दिया गया। 

यह भी पढ़ें: गोरखपुर गोली कांड प्रकरण में एडीजी दावा शेरपा का बयान: विवेचना में सब कुछ आयेगा सामने 

लखनऊ के इसी अपोलो अस्पताल में हुआ पीड़ित का आपरेशन 

यूं हुआ पीड़ित परेशान

डाइनामाइट न्यूज़ की पड़ताल में सामने आय़ा कि पीजीआई से लेकर केजीएमसी और सहारा हास्पिटल तक में बहाना बना उसे भर्ती नहीं किया गया। थोड़ी देर के लिए पीड़ित का इलाज लखनऊ के सुषमा हास्पिटल में हुआ। इस तरह तीन दिन में पांच अस्पताल को चक्कर काटने के बाद भी उसका इलाज जब नहीं हो सका तो अंत में परिजन पहुंचे अपोलो अस्पताल जहां पर नाबालिग पीड़ित अरविंद का आपरेशन किया गया है लेकिन यहां पर उसकी हालत बेहद नाजुक बनी हुई है। 

इसी बंदूक से मारी गयी गोली

बेरहमी से मारी गोली

अरविंद के सिर में आंख के पास निजी सुरक्षा गार्ड ने दोनाली बंदूक से बेरहमी से गोली मारी है। 

एडीजी का बयान

अपर पुलिस महानिदेशक दावा शेरपा ने डाइनामाइट न्यूज़ के साथ एक विशेष बातचीत में कहा है कि विवेचना में सब कुछ सामने आयेगा और गार्ड की शीघ्र गिरफ्तारी होगी।

यह भी पढ़ें: गोरखपुर: नाबालिग गोलीकांड में गैलेंट इस्पात के मालिक चंद्र प्रकाश अग्रवाल को क्यों बचा रही है पुलिस?

बायें  ट्रैक्टर पर बैठा गार्ड संदीप और दायें गैलेंट इस्पात के मालिक चंद्र प्रकाश अग्रवाल

धनवान व्यापारी चंदू को बचाने में जुटी पुलिस

पीड़ितों के साथियों और पिता संतराज का कहना है कि गोरखपुर पुलिस रसूखदार धनवान चंदू को पुलिस बचा रही है। आरोप है कि चंदू के नाम वाली एफआईआर ही नहीं दर्ज की गयी और तहरीर बदलकर देने का दबाव गोरखनाथ थाने के सीओ प्रवीण सिंह ने बनाया और बदली हुई तहरीर दर्ज की गयी। जिसे लेकर स्थानीय लोगों में भारी गुस्सा है। 
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

कीवर्ड :





संबंधित समाचार