नवरात्र स्पेशल: स्कंदमाता की करें अराधना, मिलेगा ये आशीर्वाद

डीएन ब्यूरो

अगर आपको संतान से संबंधित कोई समस्या हो तो आज नवरात्र के पाँचवें दिन स्कंदमाता कि पूजा करनी चाहिए।आज के दिन कि गई माँ कि उपासना से घर परिवार में सुख शांति बनी रहती है। डाइनामाइट न्यूज़ लेकर आया है माँ कि पूजा से संबंधित विशेष जानकारी ।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली: आज नवरात्र का पांचवां दिन है।चारों तरफ माँ कि झाँकी ही दिखाई दे रही है।हर तरफ माँ के ही जयकारे सुनाई दे रहे है। आज माँ दुर्गा के पाँचवें स्वरूप माँ स्कंदमाता की पूजा कि जाती है।

यह भी पढ़ें: नवरात्रि के व्रत में गलती से भी ना खाएं ये चीजें, वर्ना पछताएंगे

स्कंदमाता को भगवान कार्तिकेय की माता भी कहते है। दुर्गा सप्तसती में माँ स्कंदमाता को चेतान्सी भी कहा गया है। देवी स्कंदमाता को विद्वानों और सेवक पैदा करने वाली शक्ति भी मानते है। इसलिए इन्हें वात्सलय कि देवी भी मानते है। ऐसी मान्यता है कि मां स्कंदमाता संतान को आशीर्वाद देने वाली मानी जाती है।

यह भी पढे़ं: इस नवरात्रि लुत्फ उठाएं कुट्टू के डोसा का, जानें क्या है रेसिपी

कैसा है माँ का स्वरूप
माँ स्कंदमाता कमल के आसन पर विराजमान रहती है। उनकी चार भुजाएं है।एक में भगवान स्कंद को गोद में धारण किये हुए है।दुसरी और चौथी भुजा में कमल का फूल धारण किये हुए है।माँ तीसरी भुजा से आशीर्वाद प्रदान कर रही है।इनको इनके पुत्र के नाम से भी पुकारा जाता है।

यह भी पढे़ं: कैसा है माँ का तीसरा स्वरूप, कैसे करें इस रूप की अराधना ।

माँ का मंत्र
या देवी सर्वभू‍तेषु मां स्‍कंदमाता रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

यह भी पढे़ं: व्रत में खाएं स्वादिष्ट और हेल्दी कुट्टू की कचौरी, जानें बनाने का आसान तरीक

विशेष प्रभाव
जिनको संतान प्राप्ति में कोई समस्या हो वे लौंग व कपूर में अनार के दाने मिलाकर माँ स्कंदमाता को 11 बार आहुति दे। 

यह भी पढे़ं: नवरात्री के नौ दिन,माँ के प्रथम स्वरूप की ऐसे करें अराधना

 माँ को क्या भोग लगाये   
माँ को केला बहुत पसंद है।माँ को अलसी का भोग लगाने से घर परिवार में सुख समृद्धि बनी रहती है।

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार