Bihar: शर्मसार हुई इंसानियत, पिता नहीं दे पाया 1000 रुपए तो अस्पताल में तड़प-तड़क कर नवजात बच्ची ने तोड़ा दम

डीएन ब्यूरो

अस्पताल में जहां लोगों का इलाज करके उनकी जिंदगी बचाई जाती है, वहीं दूसरी तरफ बिहार के एक अस्पताल में मौत का खेल खेला जा रहा है। मधेपुरा के एक अस्पताल में सिर्फ हजार रुपए ना मिलने पर ऐसी लापरवाही की गई की एक नवजात बच्ची की मौत हो गई। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

बिहार: मधेपुरा के अस्पताल में दिल को पसीजता हुआ मामला सामने आया है। जहां परिजनों द्वारा पैसे नहीं देने पर अस्पताल कर्मियों ने आइसीयू के वार्मर में रखी गंभीर बच्ची को बाहर निकालकर रख दिया गया। जिससे बच्ची ने कुछ ही पलों में तड़पकर दम तोड़ दिया। 

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक, पहुंची तीन वर्षों की महिला टॉपर्स, राष्ट्रपति के सचिव रहे मुख्य अतिथि

मामला मधेपुरा जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, कुमारखंड का है। जहां कुमारखंड पंचायत के वार्ड नंबर 1 रामनगर टोला निवासी गगन ऋषिदेव की पत्नी पूजा देवी को प्रसव के लिए सोमवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां पूजा ने बच्ची को जन्म दिया। जन्म के दौरान बच्ची का वजन कम था और शारीरिक रूप से कमजोर थी। जन्म के बाद बच्ची को ICU के वार्मर में रखा गया था। 

यह भी पढ़ें: राष्ट्रपति के सचिव संजय कोठारी ने कहा- आईएएस की परीक्षा में विषयों का सही चयन बेहद जरुरी

इसी दौरान जननी कक्ष में तैनात एएनएम कंचन कुमारी और उमा कुमारी ने गगन ऋषिदेव से हजार रुपए की मांग की। जब गगन ने उन्हें पैसे नहीं दिए तो नवजात बच्ची को आइसीयू के वार्मर से बाहर निकाल दिया। वार्मर से बाहर आते ही नवजात ने कुछ ही देर के बाद दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद गुस्साए परिजनों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, कुमारखंड पर जमकर हंगामा किया और कुमारखंड थाना में एएनएम और चिकित्सक के विरुद्ध आवेदन देकर कर कार्रवाई की मांग की है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार