बड़ी ख़बर: पनियरा के विवादित थानेदार अखिलेश प्रताप सिंह को एडीजी दावा शेरपा ने लिया निशाने पर, बैठायी जाँच

डीएन ब्यूरो

महराजगंज ज़िले के पनियरा थानेदार अखिलेश प्रताप सिंह के ख़िलाफ़ सीओ स्तर के अधिकारी को जाँच सौंपी गयी है। एक नाबालिग लड़की के साथ छेड़खानी के मामले में पाक्सो एक्ट और SCST में दर्ज केस के आरोपियों पर न्यायालय ने NBW जारी कर रखा है लेकिन आरोपियों की गिरफ़्तारी की बजाय उन्हें संरक्षण दिया जा रहा है। डाइनामाइट न्यूज़ एक्सक्लूसिव:

लाल घेरे में पनियरा के विवादित थानेदार अखिलेश प्रताप सिंह
लाल घेरे में पनियरा के विवादित थानेदार अखिलेश प्रताप सिंह

महराजगंज: महराजगंज ज़िले के पनियरा थाने के विवादित थानेदार अखिलेश प्रताप सिंह के कारनामे सिर-चढ़कर बोल रहे हैं। इलाक़े के सौरहा गाँव में एक दलित नाबालिग लड़की के साथ छेड़खानी की जाती है लेकिन पुलिस कोई मुकदमा नहीं लिखती। 

यह भी पढ़ेंः महराजगंज: विरोध के बावजूद अनोखे तरीक़े से घुघुली में मनायी जा रही है छठ

न्यायालय के आदेश पर अभियुक्त मुन्नीलाल निषाद और रामचन्द्र के खिलाफ पाक्सो एक्ट और SCST की गम्भीर धाराओं में केस दर्ज होता है। इसके बाद आरोपियों पर न्यायालय से NBW जारी होता है लेकिन डेढ़ महीने बाद भी आरोपियों को गिरफ़्तार कर कोर्ट में पेश करने की बजाय थानेदार अपने ही थाने में बैठाकर अभियुक्तों की आवभगत करते नज़र आ रहे हैं। 

थाने में SHO के साथ बैठा मुन्नीलाल निषाद

अभियुक्त अपने बचाव में इलाहाबाद हाईकोर्ट भी गये लेकिन कोई राहत नहीं मिली। इतना सब कुछ होने के बाद भी आख़िर क्यों पनियरा थानेदार अपराधियों को बचा रहे हैं? इसके पीछे क्या स्वार्थ है? यह बेहद गम्भीर सवाल है। 

एडीजी ने सारे मामले की जाँच सीओ स्तर के अधिकारी को सौंप दी है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार