जानिये.. इलाहाबाद हाईकोर्ट के नये चीफ जस्टिस गोविंद माथुर का अब तक का सफर

डीएन ब्यूरो

इलाहाबाद हाईकोर्ट को गोविंद माथुर के रूप में नया चीफ जस्टिस मिल गया है। माथुर को यूपी के राज्यपाल राम नाईक ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई, इस दौरान उच्च न्यायालय के सारे जज मौजूद रहे। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें गोविंद माथुर के चीफ जस्टिस बनने तक का पूरा सफर..

इलाहाबाद हाईकोर्ट को मिला नया चीफ जस्टिस
इलाहाबाद हाईकोर्ट को मिला नया चीफ जस्टिस

प्रयागराजः इलाहाबाद हाईकोर्ट को बुधवार को गोविंद माथुर के रूप में नया चीफ जस्टिस मिल गया है। माथुर को यूपी के राज्यपाल राम नाईक ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई, इस दौरान उच्च न्यायालय के सारे जज मौजूद रहे। जस्टिस बाबा साहब भोसले के रिटायर होने के बाद गोविंद माथुर इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बनाये गये हैं। माथुर इससे पहले राज्सथान होईकोर्ट के भी जज रह चुके हैं।       

यह भी पढ़ेंः कुशीनगरः स्टिंग ऑपरेशन से लेखपाल की काली करतूतों का हुआ पर्दाफाश.. नौकरी नहीं हो रही दलाली  

 

 

CJ के पद व गोपनीयता की शपथ दिलाते राज्यपाल 

 

बुधवार सुबह 9.30 हाईकोर्ट में चीफ जस्टिस के शपथ ग्रहण समारोह में शरीक होने के लिये सभी जज पहुंच गये थे। यहां चीफ जस्टिस कोर्ट में बड़े ही सादे और परम्परागत तरीके से राज्यपाल राम नाईक ने चीफ जस्टिस को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। राज्यपाल ने इसके बाद कुछ समय वहां मौजूद न्यायाधीशों के सात गुजारा और उसके बाद वे लखनऊ के लिये रवाना हो गये।         

यह भी पढ़ेंः सबरीमला: पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई अगले साल 22 जनवरी को  

 

 

इलाहाबाद हाईकोर्ट (फाइल फोटो)

 

चीफ जस्टिस डीबी भोसले के रिटायर होने के बाद गोविंद माथुर को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश बनाया गया था। जस्टिस गोविंद माथुर बीते साल नवंबर में राजस्थान हाईकोर्ट के स्थानांतरित होकर यहां आये थे। इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस का पद बीते 23 अक्टूबर से खाली था। इसे लेकर सुप्री कोर्ट कोलेजियम ने गत 29 अक्टूबर को जस्टिस गोविंद माथुर को हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाने के लिये संस्तुति की थी।     

यह भी पढ़ेंः CBI विवादः CVC ने सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष सीलबंद लिफाफे में पेश की जांच रिपोर्ट..  

2004 में हाईकोर्ट का जज बनने से पहले वह जोधपुर स्थित राजस्थान होईकोर्ट में संवैधानिक, सर्विस व श्रमिक मामलों की वकालत करते थे। यहीं नहीं माथुर राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर, इंडियन ऑयल कारपोरेशन, एनसीटीई, राजस्थान विद्यापीठ समेत कई पंजाब नेशनल बैंक व अन्य कई बड़े संस्थानों में भी बतौर वकील वकालत कर चुके हैं।

 













संबंधित समाचार