CBI विवादः CVC ने सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष सीलबंद लिफाफे में पेश की जांच रिपोर्ट..

डीएन ब्यूरो

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) में चल रही लड़ाई पर उच्चतम न्यायालय में अब शुक्रवार को सुनवाई होगी। मामले की जांच कर रहे मुख्य सतर्कता आयोग (CVC) ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष सीलबंद लिफाफे में अपनी जांच रिपोर्ट पेश की है। मामले में अगली सुनवाई अब शुक्रवार को होगी। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें कोर्ट में आज क्या- क्या हुआ

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) में चल रही लड़ाई पर उच्चतम न्यायालय में अब शुक्रवार को सुनवाई होगी।

मुख्य सतर्कता आयोग (सीवीसी) की ओर से सोमवार को जांच रिपोर्ट मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष सीलबंद लिफाफे में पेश की गयी जिस पर शुक्रवार को आगे की सुनवाई होगी।

यह भी पढ़ें: CBI मामले पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश- दो हफ्ते में जांच पूरी करे CVC  

 

CBI अधिकारी आस्थाना/ आलोक वर्मा विवाद की सुनवाई 

 

इस मामले में जांच एजेंसी के कार्यवाहक निदेशक नागेश्वर राव ने भी अपने जवाब दाखिल किये।

मुख्य न्यायाधीश ने हालांकि जवाब में देरी के लिए सीवीसी को कड़ी फटकार लगायी। उन्होंने कहा कि रजिस्ट्री कल भी खुली थी लेकिन सीवीसी ने रिपोर्ट नहीं दायर की। 

न्यायालय की आपत्ति पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने माफी मांगी।  

 

सीबीआई कार्यालय का मुख्य गेट (फाइल फोटो)

 

सुनवाई के दौरान सीवीसी के चार अधिकारी मौजूद रहे, जिन्होंने घूस के आरोपों से जुड़ी जांच रिपोर्ट की तीन प्रतियां सीलबंद लिफाफे में न्यायालय को सौंपी। शीर्ष अदालत ने इस रिपोर्ट के बारे में कोई जिक्र नहीं किया और सुनवाई शुक्रवार के लिए स्थगित कर दी। 

यह भी पढ़ें: सीबीआई को पिंजरे में कैद तोता समझने की भूल कर बैठी सरकार

गौरतलब है कि सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने एक दूसरे पर रिश्वतखोरी के आरोप लगाये हैं। दोनों को फिलहाल छुट्टी पर भेज दिया गया है और राव को अंतरिम प्रभार दिया गया है। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …