नशेड़ी राज्य के रूप में बदनाम पंजाब में लगा हुक्का बार पर प्रतिबंध..धड़ल्ले से चल रहा था नशे का कारोबार

डीएन ब्यूरो

देश में गुजरात और महाराष्ट्र के बाद अब पंजाब में भी हुक्का बार पर प्रतिबंध लग गया है। ऐसा करने वाला यह अब देश का तीसरा राज्य बन गया है। इसकी मंजूरी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें कैसे पंजाब में हुई इतनी बड़ी कार्रवाई

हुक्का बार पर पंजाब में प्रतिबंध
हुक्का बार पर पंजाब में प्रतिबंध

नई दिल्लीः देश में गुजरात और महाराष्ट्र के बाद अब पंजाब में भी हुक्का बार और लाउंज पर पाबंदी लग गई है। इसी के साथ पंजाब ऐसा करने वाला देश का तीसरा राज्य बन गया है। राज्य में तंबाकू के इस्तेमाल पर अंकुश संबंधी विधेयक को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दी है। पंजाब विधानसभा ने मार्च में यह विधेयक पारित किया था। इस कानून को लाने का मुख्य उद्देश्य किसी भी तरह से तंबाकू के इस्तेमाल पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगाना है और तंबाकू उत्पादों के सेवन से होने वाली बीमारियों की रोकथाम करना करना है।    

यह भी पढ़ेंः तेज प्रताप तलाक प्रकरणः बेटे को मनाने दिल्ली पहुंची राबड़ी देवी, क्या सुलझेगा विवाद?  

  

राष्ट्रपति ने विधेयक को दी मंजूरी 

 

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक राष्ट्रपति ने सिगरेट व इससे संबंधित तंबाकू उत्पादों (विज्ञापन पर रोक तथा व्यापार एवं वाणिज्य, उत्पादन, आपूर्ति एवं वितरण का विनिमय) पंजाब संशोधन विधयेक, 2018 को हाल ही में मंजूरी दी है। गौरतलब है कि पंजाब में बारों में अवैध रूप से मादक पदार्थों के इस्तेमाल को लेकर पुलिस को कई बार शिकायतें मिली थीं। इस पर पंजाब विधानसभा में राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने एक विधेयक पेश कर कहा था कि पंजाब में हुक्का-शाशा धूम्रपान की नई प्रवत्ति चल पड़ी है जो दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।      

यह भी पढ़ेंः दुनिया रह गयी हैरान जब.. इंदिरा गांधी ने कर दिये पाकिस्तान के दो टुकड़े.. पूरी खबर..

 

अब रेस्त्रां-होटल और क्लब में हुक्के पर पूर्ण प्रतिबंध

 

यह भी पढ़ेंः CM योगी के शहर का भ्रष्टाचारी सीओ हुआ सस्पेंड..अवैध बसें चलवाकर करता था मोटी कमाई  

यहां आलम यह है कि प्रदेश में हर तरफ रेस्त्रां, होटल और क्लब खुल रहे हैं। जहां धड़ल्ले से हुक्के का सेवन किया जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि हुक्के में सबसे अधिक हानिकारक अवयव निकोटीन होता है जिससे कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। अगर राज्य में इस पर पूर्ण प्रतिबंध नहीं लगा तो वह समय दूर नहीं जब पंजाब में युवा इस नशे का शिकार होंगे और अपनी जवानी को नशे में चूर होकर इसे बर्बाद कर अपने भविष्य और परिवार को तबाह कर देंगे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …