दिल्ली चिड़ियाघर में कुछ इस अंदाज में मनाया गया विश्व गौरैया दिवस..डायरेक्टर रेनू सिंह भी रही मौजूद

डीएन ब्यूरो

आज विश्व गौरैया दिवस है और यह हर साल 20 मार्च को मनाया जाता है। दिल्ली चिड़ियाघर में विश्व गौरैया दिवस डायरेक्टर रेनू सिंह की देखरेख में कुछ इस अंदाज में मनाया गया। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..


नई दिल्ली: चीं-चीं, फुदकन, चिरैया ऐसे कई नामों से आप ने बचपन में जिस गौरैया को आंगन और मुंडेर पर चहकते देखा होगा वो अब धीरे-धीरे विलुप्त होती जा रही है। गौरैया के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से हर साल 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली चिड़ियाघर की कामयाबी में जुड़ा एक और सितारा.. रीटा चिम्पांजी की वजह से लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में जुड़ा नाम

दिल्ली जू की डायरेक्टर रेनू सिंह व अन्य लोग

 

दिल्ली चिड़ियाघर में विश्व गौरैया दिवस डायरेक्टर रेनू सिंह की देखरेख में मनाया गया। इस मौके पर बात करती हुई रेनू सिंह ने कहा कि इस दिवस का उद्देश्य गौरैया का संरक्षण करना है।कुछ सालों पहले आसानी से दिख जाने वाला यह पक्षी अब धीरे-धीरे विलुप्त होती जा रही है। लगातार घट रही गौरैया की संख्या को अगर गंभीरता से नहीं लिया गया तो वह दिन दूर नहीं, जब गौरैया हमेशा के लिए विलुप्त हो जायेगी। वहीं रेणू सिंह ने गौरैया के संरक्षण को लेकर और भी कई महत्वपूर्ण बातें कही।

यह भी पढ़ें: विश्व वन्यजीव दिवस पर दिल्ली जू में कार्यक्रम का आयोजन, लुप्त होते जीवों को बचाने के लिए की गई एक पहल..

पौधा रोपण करती डायरेक्टर रेनू सिंह 

 

विश्व गौरैया दिवस पर दिल्ली जू में पौधा रोपण भी किया गया। इस अवसर पर कुछ स्कूली बच्चे और पर्यटक समेत दिल्ली चिड़ियाघर के कर्मचारी भी मौजूद रहे। साल 2010 में पहली बार गौरैया दिवस मनाया गया था। गौरैया के जीवन संकट को देखते हुए वर्ष 2012 में उसे दिल्ली के राज्य पक्षी का दर्जा भी दिया गया था।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …