बुलंदशहर LIVE: गोकशी को लेकर मची हिंसा से जुड़ी हिलाकर रख देने वाली 5 बातें..

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर को गोकशी को लेकर स्याना थाना क्षेत्र के चिंगरावठी चौराहे पर हंगामे को लेकर कुछ अहम बातें सामने आती है। जिसने सबको हिलाकर रख दिया है। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में पढ़ें हिंसा के पीछे कौन

बुलंदशहर में मची हिंसा
बुलंदशहर में मची हिंसा

बुलंदशहरः उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में सोमवार को गोकशी के शक में हिंदू संगठनों के साथ मिलकर ग्रामीणों ने बड़ा बवाल खड़ा कर दिया जिसने देखते ही देखते बड़ी हिंसा का रूप ले लिया। यहां गुस्साएं लोगों ने चिंगरावठी चौराहे पर हंगामा करते हुए पथराव और फायरिंग शुरू कर दी। जिससे स्याना कोतवाली प्रभारी सुबोध कुमार की गोली लगने से मौत हो गई। साथ ही ग्रामीण यहां नहीं रुके और उनके पथराव ने कई अन्य पुलिस वालों को भी घायल कर दिया। फायरिंग के दौरान एक युवक की भी गोली लगने से मौत हुई है।   

यह भी पढ़ेंः गोकशी के नाम पर बुलंदशहर में भारी हिंसा, इंस्पेक्टर की हत्या, भीड़ ने फूंकी पुलिस चौकी, मचाया तांडव 

 

गोकशी को लेकर बुलंदशहर में बवाल

 

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहर हिंसा को लेकर अखिलेश यादव ने बोला योगी सरकार पर हमला.. कहा-अराजकता के दौर से गुजर रहा है यूपी

हिंसा को लेकर वो पांच बातें जिनमें छुपा है राज 

1. घटना सोमवार दोपहर 12 से 1 बजे के बीच की बताई जा रही है। अब सवाल यह खड़ा हो रहा है कि क्या यह पहले से ही सुनीयोजित तो नहीं था कि यहां पर इसी समय हिंसा भड़कानी है जब लोग अपने दैनिक कार्यों को निपटाने के लिए इधर से उधर जा रहे हो। 

2. स्याना में अवैध बूचड़खाने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने ही नहीं बल्कि तीन गांवों से पहुंचे 400 ग्रामीणों के साथ मिलकर हिंदू संगठनों ने यहां पुलिस थाने में जमकर तोड़फोड़ की और इसे आग के हवाले कर दिया।      

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहर हिंसा को लेकर यूपी के एडीजी (लॉ एंड आर्डर) का बड़ा बयान.. कही ये बड़ी बातें

   

उपद्रवियों ने की पत्थरबाजी और फायरिंग

 

3. पुलिस चौकी पर मची हिंसा का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इस भारी भीड़ ने यहां देड़ दर्जन से अधिक पुलिस के वाहनों में आग लगा दी और इससे माहौल और तनावपूर्ण हो गया। जिससे वहां पर आग और धुएं के बीच चारों तरफ से पत्थरबाजी हो रही थी और फायरिंग की आवाजों ने पुलिस वालों के रोंगटे खड़े कर दिए।     

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहरः इंस्पेक्टर की मौत व बवाल के बीच जागी सरकार..मौके पर भेजा भारी पुलिस बल 

 

थाने के बाहर खड़ी गाड़ियों में लगाई आग

 

4. गोकशी को लेकर यहां पहुंची भारी भीड़ का आक्रोश इतना चरम पर आ गया इन्होंने कानून को अपने हाथ में ले लिया और पत्थरबाजी और फायरिंग के बीच  इंस्पेक्टर स्याना सुबोध कुमार सिंह की जान चली गई। यहीं नहीं जब इंस्पेक्टर को गोली लगी तो वहां मौजूद उनके सहकर्मी पुलिस वाले वहां से भाग खड़े हुए और थाने में कोई भी पुलिसकर्मी नजर नहीं आया। 

5. आक्रोशित भीड़ की पत्थरबाजी से घायल हुए अन्य पुलिसकर्मियों ने खेत में भागकर अपनी जान बचाई नहीं तो उन्हें भी इनकी पत्थरबाजी और गोली का शिकार होना पड़ता।  

यह भी पढ़ेंः गोकशी के नाम पर बुलंदशहर में भारी हिंसा, इंस्पेक्टर की हत्या, भीड़ ने फूंकी पुलिस चौकी, मचाया तांडव

   

भीड़ ने ले ली इंस्पेक्टर सुबोध की जान 

 

घटना के बाद से अब योगी सरकार एक बार फिर कटघरे में आ गई है कि आखिर कब तक प्रदेश में कभी मुज्जफरनगर कभी मेरठ और अब बुलंदशहर में ऐसी सांप्रदायिक हिंसा फैलती रहेगी जिसमें मासूम लोगों और पुलिस प्रशासन के सिपाहियों व अधिकारियों की जानें जाती रहेंगी। अब बड़ा सवाल ये खड़ा हो रहा है कि आखिर गोकशी की आड़ में प्रदेश को आग में झोकने और हिंसा फैलाने वाले ये कौन से संगठन है जिनकी पहचान करने में योगी सरकार पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही है। 

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …