बुलंदशहर हिंसा को लेकर यूपी के एडीजी (लॉ&आर्डर) का बड़ा बयान.. कही ये बड़ी बातें

डीएन ब्यूरो

बुलंदशहर में गोकशी की आड़ में मचे बवाल के बीच हुई इंस्पेक्टर की मौत के बाद भारी पुलिस बल को मौके पर भेजा गया है। इसी बीच ADG एलओ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मामले को लेकर पांच बड़ी बातें बोली है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें क्या बोले एडीजी..


बुलंदशहरः गोकशी को लेकर बुलंदशहर में भड़की हिंसा के बीच हुई इंस्पेक्टर की मौत के बाद माहौल और गर्मा गया है। इसी बीच एडीजी लॉ एंड आर्डर ने आनन-फानन में प्रेंस कॉन्फ्रेंस कर मौके पर भारी पुलिस बल भेजने की बात कही है। यहां हिंसा अभी चरम पर बनी हुई है। ग्रामीणों ने न सिर्फ पुलिस बल पर पथराव किया है बल्कि गोलीबारी भी की है।    

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहर हिंसा को लेकर अखिलेश यादव ने बोला योगी सरकार पर हमला.. कहा-अराजकता के दौर से गुजर रहा है यूपी  

 

 

बुलंदशहर हिंसा को लेकर यूपी के एडीजी (लॉ एंड आर्डर) ने कहीं ये पांच बड़ी बातें

1. बुलंदशहर में भड़की हिंसा के बीच गई इंस्पेक्टर की जान को लेकर यूपी एक एडीजी आनंद कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अभी यह पता नहीं चल पाया है कि इंस्पेक्टर की मौत गोली लगने से हुई या फिर पत्थरबाजों के पथराव से।       

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहरः इंस्पेक्टर की मौत व बवाल के बीच जागी सरकार..मौके पर भेजा भारी पुलिस बल 

 

 

2. एडीजी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जांच और पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा की इंस्पेक्टर की मौत का असल कारण क्या है, उनकी मौत कैसे हुई है। 

3. आनंद कुमार ने कहा कि घटनास्थल पर भारी संख्या में पुलिस बल भेजा गया है। गाड़ियों को आग के हवाले करने वाले और पथराव करने वाले लोगों की पहचान की जा रही है। हिंसा भड़काने वाले जो भी असमाजिक तत्व हैं उनकी पहचान कर उन्हें सख्त से सख्त सजा दी जाएगी। 

4. एडीजी ने कहा कि मामले में एसआईटी का भी गठन किया गया है। जो घटनास्थल पर जाकर मामले में जांच-पड़ताल कर रही है। प्रथम दृष्टियां ऐसे लग रहा है कि इंस्पेक्टर को भीड़ ने गोली नहीं बल्कि उन्हें इस दौरान कोई बड़ा पत्थर लगा है जिससे उनकी मौत हुई है।   

यह भी पढ़ेंः गोकशी के नाम पर बुलंदशहर में भारी हिंसा, इंस्पेक्टर की हत्या, भीड़ ने फूंकी पुलिस चौकी, मचाया तांडव

 

 

यह भी पढ़ेंः BBAU में छात्रों को बेरहमी से पीटने वाले बीटेक विभाग के निदेशक की छुट्टी..हाथ से गया पद

5. भीड़ को उकसाने वाले तत्वों की जांच की जा रही है। साथ ही गोवंश को लेकर बवाल मचा रहे लोगों की पहचान कर यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि क्या असल में यह गोवंश था भी या फिर यह सोची-समझी साजिश की तहत हिंसा की कोई योजना थी।

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार