गोकशी के नाम पर बुलंदशहर में भारी हिंसा, इंस्पेक्टर की हत्या, भीड़ ने फूंकी पुलिस चौकी, मचाया तांडव

डीएन ब्यूरो

यूपी में कानून-व्यवस्था पूरी तरह पटरी से उतर चुकी है। सोमवार को बुलंदशहर में गोकशी ने नाम पर भीड़ ने भारी हिंसा मचायी और इस दौरान हुई पत्थरबाजी की चपेट में आकर एक पुलिस इंस्पेक्टर की हत्या कर दी गयी। इसके अलावा एक अन्य युवक के मौत की भी खबर है। मौके पर भारी तनाव फैला हुआ है। डाइनामाइट न्य़ूज़ एक्सक्लूसिव..

हिंसा में इंस्पेक्टर की गई जान
हिंसा में इंस्पेक्टर की गई जान

बुलंदशहर: यूपी में सीएम एक महीने से बाहर दूसरे राज्यों में चुनाव प्रचार को घूम रहे हैं जो समय बच रहा है वह गोरखपुर में बीत रहा है और इधर पूरे सूबे में अराजकता व्याप्त है। जगह-जगह गुंडे गोहत्या के नाम पर अराजकता फैलाये हुए हैं।      

 

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहरः इंस्पेक्टर की मौत व बवाल के बीच जागी सरकार..मौके पर भेजा भारी पुलिस बल  

 

फूंकी गयी मोटरसाइकिलें

पूरा मामला
बुलंदशहर जिले के स्याना कोतवाली क्षेत्र के महाव गांव में गन्ने के खेत में बड़े पैमाने पर गोकशी के अवशेष मिलने पर हिंदू संगठनों से जुड़े लोग अपना विरोध प्रकट करने अवशेषों को ट्रैक्टर ट्रॉली में भर स्याना-बुलंदशहर राजमार्ग पर स्थित चिंगरावठी पुलिस चौकी के पास भारी जाम लगा दिया।  

 

यह भी पढ़ेंः BBAU में छात्रों को बेरहमी से पीटने वाले बीटेक विभाग के निदेशक की छुट्टी..हाथ से गया पद 

 

गाड़ियों के जलाये जाने का दृश्य

पुलिस चौकी में घुसकर तोडफ़ोड़

हंगामा करते हुए इन लोगों ने आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग की जब पुलिस ने जाम खुलवाने का प्रयास किया तो आक्रोशित भीड़ ने पुलिस पर पत्थरबाजी कर दी। भीड़ ने पुलिस चौकी में घुसकर तोडफ़ोड़ की और चौकी और दर्जनों वाहनों को आग के हवाले कर दिया। इसके बाद हालात संभालने को पुलिस ने हवाई फायरिंग की, फिर स्याना कोतवाल इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह पर हमला बोल दिया गया। इसमें उनकी मौत हो गई।   
 

एक अन्य युवक की भी मौत 
पथराव में एक अन्य युवक सुमित पुत्र अमरजीत निवासी चिंगरावठी की भी मौत हो गयी।   

यह भी पढ़ेंः रिश्ते हुए तार-तार.. मौसी पर ही लगाया करोड़ों के जेवर और नकदी हड़पने का आरोप  

 

पत्नी के साथ इंस्पेक्टर (फाइल फोटो)

नही थी पर्याप्त फोर्स
डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता के मुताबिक जब मौके  पर विवाद हुआ तो वहां सिर्फ आधा दर्जन पुलिस वाले ही थे। भीड़ का रुख देख पुलिसवाले गन्ने के खेतों में छिप किसी तरह अननी जान बचाते दिखे।

 

एटा के रहने वाले थे सुबोध
कोतवाल सुबोध कुमार सिंह पुत्र राम प्रताप सिंह, निवासी- ग्राम परगंवा, थाना- जैथरा जनपद एटा के रहने वाले थे।   

यह भी पढ़ेंः राजस्थान विधानसभा चुनावः राहुल गांधी को 'पप्पू' बोलकर बुरे फंसे BJP सांसद, मचा बवाल
 

फेल हुआ जिला प्रशासन और खुफिया तंत्र
डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता के मुताबिक जिले का खुफिया तंत्र और डीएम-एसपी पूरी तरह से अपने जिम्मेदारियों के निर्वहन में असफल साबित हुए हैं। ये लोग मौके के नजाकत को भांपने में असफल साबित हुए है।

 

लीपा-पोती करने एडीजी प्रशांत कुमार पहुंचे मौके पर
मेरठ जोन की लंबे समय से कमान संभाले एडीजी मेरठ प्रशांत कुमार के राज में पूरी इलाका धधक रहा है। यह इनकी कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल खड़े कर रहा है लेकिन साहब कि मस्त..इन्हें मानो कोई चिंता ही नही।  

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार