यूपी STF ने रणदीप भाटी गैंग के 5 आरोपी को धर दबोचा, दादरी हत्याकांड में वांछित हैं अभियुक्त

डीएन ब्यूरो

यूपी एसटीएफ की नोएडा यूनिट की बदमाशों के साथ मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ में एसटीएफ ने 25 हजार के इनामी आरोपी सहित 4 अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

मुख्य आरोपी भूपेंद्र
मुख्य आरोपी भूपेंद्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की एसटीएफ टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है। यूपी पुलिस ने एसटीएफ के साथ मिलकर बुधवार को बदमाशों के साथ हुई मुठभेड़ में दादरी हत्याकांड में वांछित चल रहे रणदीप भाटी गैंग के 5 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। 

यह भी पढ़ें: यूपी एसटीएफ ने क्रिकेट मैच में सट्टा लगाने वाले गिरोह का किया भंडाफोड़, 4 गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपियों में 25 हजार के इनामी आरोपी भूपेंद्र पुत्र संजय सहित अनिल पुत्र मनी राम, सिंधराज पुत्र राजपाल, जयवीर पुत्र बुटी सिंह और शैलेन्द्र भड़ाना पुत्र चैपाल को गिरफ्तार किया है। इनमें पहले चार आरोपी ग्राम मोमनाथन थाना नालेज पार्क, गौतमबुद्धनगर के रहने वाले हैं जबकि आरोपी शैलेन्द्र ग्राम कुढ़ली थाना नालेज पार्क, गौतमबुद्धनगर का रहने वाला है। ये सभी आरोपी धर्मेंद्र उर्फ धर्मी के अपहरण एवं हत्या के आरोप में वांछित थे। 

गिरफ्तार आरोपियों के पास से 1 पिस्टल, 3 जिंदा कारतूस, 2 खोखा कारतूस सहित 1 सफेद रंग की ब्रेजा कार एवं 1 सफेद रंग की ही वैगनआर कार बरामद हुई है।

अभिसूचना तंत्र की मदद से आए गिरफ्त में

यूपी एसटीएफ को लगातार संगठित रूप से की गईं आपराधिक घटनाओं की शिकायत मिल रही थी। लिहाज़ा पुलिस महानिरीक्षक एसटीएफ, उत्तर प्रदेश, लखनऊ एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ, उत्तर प्रदेश, लखनऊ के निर्देशन में इन जघन्य अपराधों को रोकने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। ये आरोपी इसी अभियान के तहत पकड़े गए हैं। 

यह भी पढें: यूपी: एसटीएफ को मिली सफलता, 1 लाख का इनामी कुख्यात बदमाश मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार

इन आरोपियों को पकड़ने के लिए दिनेश सिंह अपर पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में नोएडा यूनिट के पुलिस उपाधीक्षक राजकुमार मिश्रा तथा विनोद सिंह सरोही द्वारा टीम गठित कर अभिसूचना संकलन की कार्रवाई प्रारंभ की गई तथा अभिसूचना तंत्र को सक्रिय किया गया। 

यह भी पढें: यूपी एसटीएफ ने परीक्षा में धांधली करने वाले गिरोह का किया भंडाफोड़, एक सॉलवर समेत 12 गिरफ्तार

अभिसूचना संकलन के दौरान पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि दादरी के धर्मेंद्र उर्फ धर्मी की हत्या में वांछित चल रहा आरोपी भूपेंद्र अपने साथियों के साथ ग्राम मोमथाना में मौजूद है। सूचना मिलते ही एसटीएफ की टीम सक्रिय हो गई और गन्तव्य स्थान पर पहुंच कर आरोपियों का इंतज़ार करने लगी। जैसे ही आरोपी दिखे उन्हें दबोच लिया गया। इस दौरान मुख्य आरोपी भूपेंद्र के साथियों ने दो गाड़ियां लगाकर पुलिस की कार्रवाई में बाधा डालने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हें भी दबोच लिया।

क्या है पूरा मामला?

दादरी हत्याकांड का मुख्य आरोपी भूपेंद्र पर हत्या, हत्या के प्रयास और खनन के 2 दर्जन से अधिक मुक़दमे दर्ज हैं । भूपेंद्र पर धर्मेन्द्र हत्याकांड में 25,000 रुपये का इनाम घोषित था| इसके अलावा थाना नॉलेज पार्क से गैंस्टर ऐक्ट में भी काफ़ी समय से वह वांछित चल रहा था। पुलिस पूछताछ में 27 वर्षीय भूपेंद्र ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। उसने पुलिस पूछताछ में खुलासा किया कि किस प्रकार उसने अपने साथियों के साथ मिलकर धर्मेंद्र की हत्या की। 

उसने बताया कि उसका धर्मेंद्र के साथ कुछ विवाद चल रहा था। उसने फोन पर समझाने की कोशिश की लेकिन गाली-गलौज शुरु हो गई। उसे गुस्सा आया। वह धर्मेंद्र को सबक सिखाने हथियार समेत अपने साथियों के साथ उसके घर पहुंचा। यह चार जनवरी का दिन था। उसका अपहरण कर उसे उसी की गाड़ी में बैठाकर वे उसे 130 फुटा रोड की ओर ले गएं। यहां उसके साथ फिर मारपीट की गई और गोली मारकर हत्या कर दी गई व शव को रूपवास के निकट सड़क किनारे फेंक दिया। गिरफ्तार सभी पांचों आरोपियों पर विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया गया है। आगे की कार्रवाई स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?

हां
80.95%
नहीं
19.05%