UP STF की एक और कामयाबी, नलकूप संचालक भर्ती परीक्षा पेपर लीक में 11 गिरफ्तार, परीक्षा रद्द

डीएन संवाददाता

UP STF के चीफ अमिताभ यश के निर्देश पर उनकी टीम ने राज्य में रविवार को UPSSSC के तहत संचालित होने वाली यूपी नलकूप संचालक भर्ती परीक्षा के आयोजन से पहले इस परीक्षा के पेपर लीक करने के मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट


लखनऊ: उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC) के तहत रविवार को होने वाली यूपी नलकूप संचालक भर्ती परीक्षा के पेपर लीक करना के मामले में UP STF ने 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। पेपर लीक और इस मामले में गिरफ्तारी के बाद सरकार ने इस परीक्षा को फिलहाल स्थगित कर दिया है। परीक्षा का नया कार्यक्रम बाद में जारी किया जायेगा।

गौरतलब है कि यूपी में आज (2 सितम्बर) को नलकूप संचालक भर्ती परीक्षा आयोजित होनी थी। इस परीक्षा के पेपर लीक होने की सूचना पर यूपी एसटीएफ ने छापेमारी कर मेरठ से एक गिरोह को गिरफ्त में लिया। इस मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया।

गिरफ्तार किये गये आरोपियों में 5 अभ्यर्थी और  प्रश्न पत्र आऊट कराकर नकल कराने वाले 6 लोग शामिल हैं। गिरफ्तार आरोपियों से दर्जनों मोबाइल फोन, प्रवेश पत्र, लगभग 15 लाख की नकदी और अन्य दस्तावेज बरामद किए गए हैं। यह गिरोह प्रत्येक स्टूडेंट्स से परीक्षा पास कराने के ऐवज में 6 से 7 लाख रुपये वसूल करता था। यह गिरोह अपनी सेटिंग से परीक्षा से एक रात पहले ही पेपर निकलवा कर अभियार्थियों को किसी निर्धारित स्थान पर बुलाकर उसकी पेपर सॉल्व कराने में मदद कराते थे।

गिरफ्तार अभियुक्तों में सचिन कुमार (प्राईमरी अध्यापक (गंगानगर मेरठ), शुभम कुमार पुत्र प्रितिपाल (हापुड़),परमीत सिंह पुत्र अमरीक सिंह (मेरठ), लोकेष कुमार पुत्र जगदीष सिंह (सहारनपुर), सुरेन्द्र सिंह पुत्र रामरोस्ताष सिंह (अमरोहा), प्रदीप कुमार पुत्र वीर सिंह (अमरोहा), कपिल पुत्र खड़क सिंह (मेरठ), दीपक सिंह पुत्र वीर सिंह (अमरोहा), अंकित पाल पुत्र कालूपाल (मेरठ), सुमित शर्मा (हापुड़) औऱ गौरव कुमार पुत्र बच्चू सिंह (हापुड़) शामल है। 

परीक्षा पेपर लीक होने के बाद सरकार ने यह परीक्षा अगले आदेश तक स्थगित कर दी है। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ जारी है। 
 













संबंधित समाचार