उन्नाव रेप कांडः सीबीआई के गवाह का शव कब्र से निकलवाने के लिए तैयार नहीं परिजन

डीएन ब्यूरो

उन्नाव रेप कांड में सीबीआई गवाह युनूस की रहस्यमय हालात में हुई मौत के मामले में नया मोड़ आया है। सीबीआई मृतक के शव को कब्र से बाहर निकालकर उसका पोस्टमार्टम करवाना चाहती हैं, जबकि मृतक युवक के परिजनों ने इसके लिए मना कर दिया है। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

फाइल फोटो
फाइल फोटो

उन्नावः सामूहिक दुष्कर्म में गवाह की मौत समेत पीड़िता के पिता की जेल में हुई मौत की सीबीआई द्वारा की जा रही जांच में अब एक नया मोड़ आ गया है। मामले में गवाह की मौत पर अब सीबीआई मृतक के शव को कब्र से निकालकर जांच कराने की तैयारी कर रही हैं। बता दें कि इस प्रकरण में उन्नाव के माखी थाना क्षेत्र के रहने वाले यूनुस सीबीआई के मुख्य गवाह थे जिनकी रहस्यमय हालात में मौत हो गई थी। 

गवाह की मौत पर उठे सवालों को लेकर उपजे विवाद के बाद अब जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पाण्डेय ने मृतक गवाह के शव को क्रब खोदकर बाहर निकालने के आदेश जारी किए है। इसे लेकर माखी थाना क्षेत्र के कब्रिस्तान के आस-पास सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया है और सुरक्षा के कड़े प्रबंध भी किए गए हैं। बताया जा रहा हैं कि स्थिति को संभालने के लिए पुलिस बल के साथ पीएसी और एसडीएम व सीओ सफीपुर की निगरानी में कब्र को खोदवाकर यूनुस के शव को बाहर निकाला जाएगा। 

यह भी पढ़ें: कौशांबी- पुलिस की मौजूदगी में दो पक्षों में हुआ बवाल, दो लोगों की मौत,चार अन्य घायल

कब्र से शव को निकालने पर आपत्ति

मृतक के शव को कब्र से बाहर निकालने के लिए सीओ सफीपुर, एसडीएम हसनगंज, एसडीएण सदर पूजा अगिन्होत्री के साथ माखी व मौरावां थाना के पुलिस बल ने मृतक युनूस के घर पहुंचे और उसके परिवार वालों के साथ मुलाकात की। लेकिन मृतक के परिवार वालों ने यूनुस के शव को कब्र से बाहर निकलवाने के लिये साफ मना कर दिया है, वो इसके लिए राजी नहीं है। मृतक के परिजनों का कहना है कि शव को कब्र से बाहर निकालना शरियत के खिलाफ है।

उसके परिवार वालों का कहना है कि मामले में सीबीआई के गवाह बनाए गए यूनुस की मौत बीमारी के चलते हुई थी। उसके परिवार वालों ने शरियत का हवाला देते हुए कहा कि यह शरियत में नहीं है, इसलिए हम इसलिए हम शव को बाहर नहीं निकलवाने देंगे। उनके इंकार करने पर अधिकारियों की टीम वापस थाना लौट गई।   

सीबीआई निदेशक लेंगे मामले में निर्णय

गौरतलब है कि उन्नाव कांड में सीबीआई गवाह यूनुस की रहस्यमय हालात में हुई मौत मामले में डीजीपी ओपी सिंह ने सीबीआई निदेशक को पत्र के द्वारा स्थिति से अवगत करवाया है। इस संबंध में पीड़ित किशोरी के चाचा व यूनुस की पत्नी की तरफ से उन्नाव पुलिस को दी गई तहरीर की कॉपी भी भेजी हैं। जिसके बाद अब सीबीआई के निदेशक मामले में निर्णय लेंगे। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ- नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग में पारदर्शिता लाने की कवायद, मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडे ने की वेबसाइट लॉन्च

इस मामले में यूनुस की पत्नी ने भी उन्नाव पुलिस को तहरीर देकर कहा है कि उन्हें आठ लाख रुपये का प्रलोभन देकर झूठा बयान देने के लिए कहा गया था। वहीं यूनुस के भाई चांद मुहम्मद ने भी पुलिस से उसके भाई का शव कब्र से निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराए जाने की मांग की है। उधर, इस बीच उन्नाव पुलिस ने मामले में डीएम से यूनुस के शव को कब्र से निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराए जाने की बात कही है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार