जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र की बड़ी चेतावनी..सुधार के लिये बचा है बहुत कम समय

डीएन ब्यूरो

संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख ने इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप पर हाल में आये भूकंप और सुनामी के कारण भारी तबाही से प्रभावितों के प्रति दुख व्यक्त किया और जलवायु परिवर्तन की समस्या को दूर करने के लिये व एकता बनाये रखने की अपील की। डाइनामाइट न्यूज की स्पेशल रिपोर्ट..

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ( फाइल फोटो)
संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ( फाइल फोटो)

न्यूयार्क: संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने दक्षिण पूर्व एशियाई देशों की सरकारों से ग्लोबल वार्मिंग और इसके दुष्परिणामों को रोकने के अभियान का नेतृत्व करने की अपील की।

यह भी पढ़ें: अगले 48 घंटे पड़ेंगे दुनिया पर भारी.. दो दिनों तक बंद रहेगा इंटरनेट! 

महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ( फाइल फोटो)

 

गुटेरेस ने इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप पर हाल में आये भूकंप और सुनामी के कारण भारी तबाही से प्रभावितों के प्रति दुख व्यक्त किया और एकता बनाये रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि आसियान राष्ट्रों में शामिल म्यांमार, फिलीपींस, थाईलैंड और वियतनाम आपदाओं से सबसे अधिक प्रभावित हैं।

यह भी पढ़ें: अफ्रीका के अरबपति व्यापारी का बंदूक की नोक पर गुंडों ने किया अपहरण

उन्होने पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन को लेकर आसियान और संरा के बीच एक्शन प्लान के प्रति वचनबद्धता को दोहराया। इसके तहत दो संगठनों के बीच आपसी सहभागिता में सुधार को लेकर उठाये जाने वाले कदमों का खाका तैयार किया गया है। उन्होंने संरा द्वारा 'विश्व को नयी दिशा' देने को लेकर तैयार किया गए एजेंडे 2030 के अनुपालन को लेकर उठाये जाने वाले कदमों पर भी जोर दिया।

यह भी पढ़ें: रूसी अंतरिक्ष यान में बीच रास्ते में आई खराबी, कराई गई आपात लैंडिंग 

गुटेरेस ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन पैनल (आईपीसीसी) की विशेष रिपोर्ट का हवाला देते हुए नेताओं से कहा कि रिपोर्ट में ग्लोबल वार्मिंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक नियंत्रित रखने में विफल रहने पर विश्व में इसके होने वाले विनाशकारी परिणामों को पेश किया गया है। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में स्पष्ट है कि विश्व में तेजी से जलवायु परिवर्तन हो रहा है और हमारे पास इसमें सुधार करने के लिए बहुत कम समय बचा है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार