कपिल सिब्बल ने कहा- सरकार बताए.. राफेल पर न्यायालय में क्यों दिए गलत तथ्य

डीएन ब्यूरो

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि भाजपा राफेल पर उच्चतम न्यायायल के फैसले के लिए अपनी पीठ थपथपा रही है। लेकिन यह नही बता रही है कि राफेल पर न्यायालय में गलत तथ्य क्यों दिए । डाइनामाइट न्यूज की रिपोर्ट..

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल

नई दिल्ली: कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि सरकार ने राफेल सौदे को लेकर उच्चतम न्यायालय के समक्ष गलत तथ्य पेश किए हैं और शीर्ष अदालत को गुमराह किया है इसलिए मोदी सरकार को इसकी वजह बतानी चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भारतीय जनता पार्टी राफेल पर उच्चतम न्यायायल के फैसले के लिए अपनी पीठ थपथपा रही है लेकिन वह यह नहीं बता रही है कि जिस नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट का उसने न्यायालय में हवाला दिया और न्यायालय ने जिसके आधार पर फैसला दिया है वह रिपोर्ट न संसद में पेश हुई और ना ही वह लोक लेखा समिति(पीएसी) के पास आयी है।

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी के बाद अब अखिलेश यादव ने राफेल को लेकर मोदी पर बोला हमला 

कपिल सिब्बल (फाइल फोटो)

उन्होंने कहा कि न्यायालय के समक्ष जो तथ्य पेश किए गए हैं उसने उसी आधार पर फैसला दिया है। न्यायालय इस मामले में पीएसी की टिप्पणियों और आपत्तियों को नहीं देख सकता है। न्यायालय को जानकारी दी गयी है कि विमानों की कीमत का जिक्र संसद में पेश कैग की रिपोर्ट और पीएसी के पास है और उसी आधार पर शीर्ष अदालत ने फैसला सुनाया है। न्यायालय को यह तो नहीं बताया गया था कि उसे गुमराह किया जा रहा है इसलिए उसके सामने जो जानकारी दी गयी उसने उसी के आधार पर फैसला दिया।

यह भी पढ़ें: राफेल विमान सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गांधी की प्रेस वार्ता की पांच बड़ी बातें

प्रवक्ता ने कहा कि अगर न्यायालय के समक्ष गलत तथ्य रखे गए हैं तो शीर्ष अदालत को गुमराह करने वाली बात है और सरकार को बताना चाहिए कि उसने ऐसा क्यों किया और विधि अधिकारियों ने किस आधार पर यह गलत सूचना अदालत को दी है। 
उन्होंने स्पष्ट किया कि उनकी पार्टी न्यायालय के फैसले का सम्मान करती है लेकिन सरकार ने न्यायालय के समक्ष जो गलत तथ्य पेश किए हैं उसकी निंदा करती है।

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …