शिवरात्रि पर भगवान शिव के जलाभिषेक से धन और सुख की होती है प्राप्ति

डीएन ब्यूरो

सावन मास में शिवरात्रि पर्व का विशेष महत्व है। शास्त्रों के हिसाब से ऐसी मान्यता है कि सावन मास की शिवरात्रि में शिवलिंग पर गंगा जल चढ़ानों वालों पर भगवान शिव विशेष कृपा करते है। पूरी खबर..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली: प्रत्येक वर्ष सावन मास में मनाई जाने वाली शिवरात्रि का धर्म-ग्रन्थों में विशेष महत्व है। यह दिन इसलिए भी खास माना जाता है क्योंकि भगवान शिव को खुश करने का यह सबसे खास दिन होता है। सावन के पवित्र महीने में गुरूवार को शिवरात्रि का त्योहार मनाया जा रहा है। सुबह से ही सभी शिव मंदिरों में कावड़िए गंगा जल को शिवलिंग पर अर्पित कर रहे हैं और भगवान शिव से आशीर्वाद मांग रहे हैं।

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: शिवरात्रि पर काशी विश्वनाथ में श्रद्धालुओं की भारी भीड़, भोले के दर्शन मात्र से मिलता है मोक्ष

महादेव शंकर को सभी देवताओं में सबसे सरल माना जाता है और उन्‍हें मनाने में ज्‍यादा जतन नहीं करने पड़ते हैं। भगवान सिर्फ सच्‍ची भक्ति से ही प्रसन्‍न हो जाते हैं।यही वजह है कि भक्‍त उन्‍हें प्‍यार से भोले नाथ बुलाते हैं। सावन के महीने में कांवड़ यात्रा का विशेष महत्‍व है, जिसका सीधा संबंध सावन की शिवरात्रि से है।

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: आजमगढ़ के भंवरनाथ मंदिर में मनोकामना पूर्ण करने के लिये भोले के भक्तों की भीड़

धार्मिक मान्यता के मुताबिक, सावन की शिवरात्रि के दिन अगर पुरुष व्रत रखकर भगवान शिव को जल अर्पित करता है तो उसे धन और सुख की प्राप्ति होती हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

















आपकी राय

#DNPoll क्या उस भारत का निर्माण हो सका है, जिसका सपना हमारे वीर-शहीदों ने आजादी से पहले देखा था?