सावन स्पेशल: शिवरात्रि पर काशी विश्वनाथ में श्रद्धालुओं की भारी भीड़, भोले के दर्शन मात्र से मिलता है मोक्ष

डीएन संवाददाता

धर्मनगरी काशी में पवित्र सावन माह के शिवरात्रि पर्व पर बाबा काशी विश्वनाथ के दर्शन के लिये भारी संख्या में श्रद्धालुओं की भारी उमड़ रही है। बाबा के दर्शन और आशीर्वाद पाने के लिये यहां कई दूर-दराज के क्षेत्रों से भोले के भक्त आये हुए है। पूरी खबर..

बाबा के दर्शन के लिये लगी भक्तों की भीड़
बाबा के दर्शन के लिये लगी भक्तों की भीड़

वाराणसी: धर्मनगरी काशी में शिवरात्रि के पावन पर्व पर देवाधिदेव महादेव के दर्शन और पूजन के लिये भारी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी हुई है। शिवरात्रि के पर्व का हिंदू धर्म शास्त्रों में बड़ा महत्व है। इस दिन भगवान शिव के प्रतीक शिवलिंग पर जलाभिषेक से भोलेनाथ भक्तों पर प्रसन्न होते हैं और उनकी हर मनोकामना पूर्ण करते है। 

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: ऐसा मंदिर जहां भगवान शिव करते हैं भक्तों की मुराद पूरी 

 

 

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: शिवभक्त& सांप तीन सौ वर्षों से कर रहा पाताली शिवलिंग की परिक्रमा 

माना जाता है कि शिवरात्रि इस दिन भगवान शिव के दर्शन मात्र से ही भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। भगनाव शिव को दया और करुणा रखने वाले सबसे बड़े ईश्वर के रूप में भी जाना जाता है। इसलिये शिवरात्रि के पर्व पर भोलेनाथ की छोटी सी पूजा का भी बड़ा महत्व है। भगवान शिव थोड़े सी पूजा-अर्चना से ही खुश हो जाते है। 

 

यह भी पढ़ें: इस बार सावन में भगवान शिव की भक्तों पर रहेगी विशेष कृपा, विधिवत पूजन से पाएं मनोवांछित फल 

यूं तो पूरा सावन माह ही भगवान शिव का होता है लेकिन इस माह में आने में आने वाली शिवरात्रि के कई धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है। माना जाता है कि इस अवसर शिवलिंग पर किये जाने वाले  दुग्ध और जल के अर्पण सीधे भगवान शिव को पहुंचता है। ऐसा करने वाले भक्तों पर भगवान शिव जल्द प्रसन्न होते है और उनकी मनोकामना पूर्ण करते है। इसलिये शिवरात्रि के मौके पर शिव दर्शन और पूजन किया जाना जरूरी है।

 


यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: भक्तों के छोटे प्रयत्नों से ही खुश हो जाते हैं भोलनाथ, इस तरह करें भगवान शिव का पूजन 

शिव भक्‍तों को सावन के महीने की इस शिवरात्रि का ब़डा इंतजार करते हैं। यही कारण है कि भक्त अपने आराध्‍य शिव को प्रसन्‍न करने औऱ शिवलिंग पर जलाभिषेक के लिए पवित्र गंगा जल लाने को भक्‍त कांवड़ यात्रा पर जाते हैं। सावन की इस शिवरात्रि के दिन भगवान शिव के प्रतीक शिवलिंग पर भक्त लाये गये गंगा जल को चढ़ाते हैं, जिससे भगवान प्रसन्न होते है और भक्त की हर मनोकामना पूर्ण करते हैं। 

 

यह भी पढ़ें: सावन स्पेशल: इटावा का श्री हजारी महादेव मंदिर सरसई.. जहां महाभारत काल में युधिष्ठिर ने की थी शिवलिंग की स्थापना 

इस पावन मौके पर काशी में बाबा विश्वनाथ के दर्शन के लिये भारी संख्या में दूर-दूर से श्रद्धालु पहुंचे हुए है। चारों तरफ भोलेनाथ के जयकारों से पूरी काशी शिवमय हो गयी है। शिवरात्रि पर यहां सुक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गये है। सुबह से ही दर्शन के लिये भक्त कतार में लगने शुरू हो गये थे। शिवरात्र पर यहां देर शाम तर भक्तों का जमावड़ा लगा रहेगा।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)









आपकी राय

#DNPoll:क्या आप एग्जिट पोल पर भरोसा करते हैं?