प्याज पर बवाल जारी: गोदामों में सड़ रहा प्याज वहीं आसमान छूती प्याज की कीमत

डीएन ब्यूरो

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के के. के. रागेश ने राज्यसभा में प्याज की आसमान छूती कीमतों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि देश मे ठीक से भंडारण के अभाव में 32 हज़ार टन प्याज सड़ गया और लोग 120 रुपए प्रति किलोग्राम प्याज खरीदने को मजबूर है जबकि सरकार मूक दर्शक बनी है।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली:  मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के के. के. रागेश ने राज्यसभा में प्याज की आसमान छूती कीमतों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि देश मे ठीक से भंडारण के अभाव में 32 हज़ार टन प्याज सड़ गया और लोग 120 रुपए प्रति किलोग्राम प्याज खरीदने को मजबूर है जबकि सरकार मूक दर्शक बनी है।

यह भी पढ़ें: यौन शोषण की बढ़ती घटनाओं पर मानवाधिकार आयोग ने केन्द्र और राज्यों से मांगी रिपोर्ट 

रागेश ने शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि भारत दुनिया मे सबसे अधिक प्याज का निर्यात करता है लेकिन आज देश में प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं। प्याज की कीमतें 120 रुपये किलो से अधिक हो गई हैं और सरकार चुपचाप बैठी है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह समस्या हर साल नवम्बर-दिसम्बर में पैदा होती है। इस बार अक्टूबर में यह समस्या पैदा हुई और एक नवम्बर को मंत्री ने बयान दिया कि देश में प्याज का उत्पादन 30 प्रतिशत कम हुआ। मंत्री ने यह भी बताया कि 32 हज़ार टन प्याज गोदाम में सड़ गए।

यह भी पढ़ें: दुष्कर्म की घटनाओं पर देश भर में गुस्साए लोग, छात्रों ने निकाला विरोध प्रदर्शन 

माकपा सदस्य ने कहा कि नवम्बर से दिसम्बर हो गये। सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। उसने हस्तक्षेप क्यों नही किया। उन्होंने आरोप लगाया कि हर साल जमाखोरी और कालाबाजारी करने वाले लोग प्याज महंगे दाम में बेचते है लेकिन सरकार कार्रवाई नहीं करती बल्कि उनका संरक्षण करती है। उन्होंने सवाल उठाया कि सरकार इस मुद्दे पर गम्भीर क्यों नहीं है और वह हस्तक्षेप क्यों नहीं करती। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)













संबंधित समाचार