मिजोरम में बवाल..चुनाव आयोग पर जमकर बरसे ये संगठन,दी धमकी

डीएन ब्यूरो

मिजोरम के सीईओ एस बी शशांक के हटाने की मांग को लेकर राज्य में संकट बढ़ गया है। चुनाव आयोग के प्रतिनिधिमंडल, राज्य सरकार के अधिकारी और राज्य की गैर सरकारी संगठन की समन्वयक समिति के साथ बैठक भी बेनतीजा निकली है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें पूरा मामला

मिजोरम के मुख्य चुनाव अधिकारी एस बी शशांक
मिजोरम के मुख्य चुनाव अधिकारी एस बी शशांक

एजल: मिजोरम के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) एस बी शशांक के हटाने की मांग को लेकर राज्य में संकट बढ़ गया है। चुनाव आयोग के प्रतिनिधिमंडल, राज्य सरकार के अधिकारी और राज्य की गैर सरकारी संगठन की समन्वयक समिति के साथ इस पर महत्वपूर्ण बैठक के बावजूद मामले ने तूल पकड़ा हुआ है। 

सूत्रों के अनुसार अधिकारियों पर बढ़ते दबाव तथा तत्कालीन प्रमुख सचिव (गृह) लालनुनमाविया चुआंगो का तबादला करने को लेकर राज्य सरकार के कर्मचारियों और श्रमिकों के फेडरेशन ने बुधवार को चुनाव आयोग पर जमकर बरसे और कहा कि फेडरेशन तब तक चुनाव आयोग के साथ सहयोग नहीं करेगा जब तक श्री शशांक को नौ नवंबर चार बजे से पहले तक राज्य से बाहर स्थानांतरित नहीं कर दिया जाता।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश चुनावः BJP ने दूसरी सूची में इन 17 धाकड़ चेहरों को मैदान में उतारा

फेडरेशन ने अपने बयान में राज्य में चुनाव संचालन के लिए बड़ी संख्या में केंद्रीय सशस्त्र बलों के कर्मियों को बुलाने का भी विरोध किया है। राज्य के लिए केंद्रीय बलों की तैनाती का कदम बेहद अनुचित है। राज्य को देश का सबसे शांतिपूर्ण राज्य होने का गौरव प्राप्त है और जिसमें शांतिपूर्ण चुनाव होने का अपना इतिहास रहा है।

नागरिक समाज के नेताओं ने मंगलवार को एक बैठक में राज्य से सीईओ को बाहर निकालने की मांग को लेकर लिये गये फैसले की समीक्षा संबंधी सुझावों को सुझाव को कथित रूप से ठुकरा दिया और आंदोलन की धमकी दी।

यह भी पढ़ें: मिजाेरम विधानसभा अध्यक्ष हिपहेई ने अचानक दिया इस्तीफा, चर्चाओं का बाजार गर्म

सूत्रों के अनुसार श्री शशांक चुनाव आयोग के साथ बैठक के लिए नयी दिल्ली जा सकते है और चुनाव आयोग के समक्ष अपना मामला उठा सकते हैं। 

गौरतलब है कि गत शुक्रवार को सीईओ की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने प्रमुख सचिव (गृह) - का स्थानांतरण कर दिया गया। जिसके बाद स्थानीय मिजोरम अधिकारी और एनजीओ ने श्री शशांक को उनके पद से हटाने और मिजोरम से बाहर भेजने की मांग की।(वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)