महराजगंज: जेई के आदेश पर काटी गई गांव की बिजली.. ग्रामीणों ने JE के खिलाफ खोला मोर्चा

डीएन संवाददाता

पिछले वर्ष सरकार ने आयुष्मान भारत योजना लागू की थी जिसके तहत गांव के गरीब लोगों के घरों तक मफ्त बिजली कनेक्शन देने का वादा किया गया था। वहीं महराजगंज जिले में अवैध कनेक्शन को लेकर दर्जनों गरीबों पर मुकदमा ठोंक दिया गया है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट..


महराजगंज: मिठौरा ब्लॉक के कसमरियां गांव से बिजली विभाग की लापरवाही का एक मामला सामने आया है। ग्रामीणों की शिकायत है कि यहां के जेई मनीष पाण्डेय ने मनमानी वाला रवैया अपनाते हुए दर्जनों ग्रामीणों पर मुकदमा ठोंक दिया है। बिजली विभाग की ओर से अवैध कनेक्शन को लेकर ये मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

यह भी पढ़ें: महराजगंज: गन्ना बकाया राशि के भुगतान को लेकर बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन 

क्या है पूरा मामला 

मामला यह है की अवैध कनेक्शन की जानकारी में चौक फीडर के जेई मनीष पाण्डेय ने दर्जनों गरीब ग्रामीणों के ऊपर मुक़दमा दर्ज करवाते हुए बीती रात पूरे गांव की बिजली कटवा दी। इसके विरोध में गांव के लोगों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया और आक्रोश में झंझनपुर रोड को पूरी तरह से जाम कर दिया। ग्रामीणों की मांग है कि तत्काल इसकी जांच हो और गांव में फिर से बिजली कनेक्शन दिए जाएं।

यह भी पढ़ें: महराजगंज: हनुमान गढ़ी मंदिर से कब्जा हटवाने गये एसडीएम, विरोध कर रहे 4 लोगों को लिया हिरासत में.. 

बिना पूर्व सूचना के काटे गए बिजली कनेक्शन

विरोध प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों से डाइनामाइट न्यूज संवाददाता ने बात की तो ग्रामीणों ने बताया कि 2016 से लगे मीटरों के बिल नहीं निकाले जा रहे हैं। बिजली विभाग की ओर से गाँव के लोगों को बिजली का बिल नहीं भेजा जा रहा था। ऐसे में लोग बिजली का बिल नहीं भर पा रहे थे। अब जेई मनमानी कर रहे हैं। बिजली न भरने का बहाना बनाकर तो कभी अवैध कनेक्शन बताकर दर्जनों घरों की बिजली काट दी गई है।

यह भी पढ़ें: महराजगंज: समाधान दिवस में डीएम ने जेई को किया सस्पेंड.. दो कानून-गो को कारण बताओ नोटिस जारी

गांव के लोगों का कहना है कि जेई या बिजली विभाग की ओर से इसकी पूर्व सूचना नहीं दी गई और न ही एफआईआर दर्ज करने से पूर्व चेतावनी दी गई थी। ग्रामीणों ने शिकायत की तो जेई अकड़ गए ओर कहने लगें, “मैं सर्वे सर्वा हूँ, जिसको कनेक्शन देना चाहूंगा दूंगा, जिसको नहीं देना चाहूंगा नहीं दूंगा।” ग्रामीणों का कहना है कि उनकी कहीं सुनवाई नहीं हो रही है इसलिए वे विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। जेई को चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा है कि यदि उनकी मांगे नहीं मानी गईं तो वे जिला मुख्यालय के आगे धरना प्रदर्शन करेंगे।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार