अतीक अहमद पर बड़ा खुलासा: आज कस दिया जायेगा शिकंजा, बदलेगी जेल.. ये होगा नया ठिकाना

मनोज टिबड़ेवाल आकाश

यूपी के सबसे बड़े गुंडे अतीक अहमद के काले-कारनामों के खिलाफ डाइनामाइट न्यूज़ की लगातार तीन खबरों के बाद राज्य के आला अफसर अब अपनी गर्दन फंसती देख हरकत में आये हैं। दो बार की लिखा-पढ़ी के बाद अदृश्य दबाव के चलते जिस अतीक की जेल अब तक नही बदली गयी.. इस गुंडे पर आज शिकंजा कस दिया जायेगा और उसे राज्य की एक हाई सिक्योरिटी बैरक वाली जेल भेजने के कागज को हरी झंडी दे दी जायेगी। डाइनामाइट न्यूज़ एक्सक्लूसिव..

माफिया डान अतीक अहमद
माफिया डान अतीक अहमद

नई दिल्ली: अतीक अहमद के कांड पर डाइनामाइट न्यूज़ की एक के बाद एक ताबड़तोड़ खबरों के बाद हरकत में आय़ा शासन.. इस बाहुबली को अब देवरिया जिला जेल से हटाने जा रहा है लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि अब तक इसे बचाता कौन रहा है? कौन है इसका राजनीतिक आका.. जिसके दम पर ये जमकर उछल-कूद मचाता रहा है। 

योगी राज में अतीक हुआ बेकाबू, जेल से तीसरी बड़ी वारदात, दहशत में कारोबारी

डाइनामाइट न्यूज़ को लखनऊ के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि ये तो महज बानगियां भर हैं जो सामने आय़ी हैं अतीक ने ऐसे-ऐसे कांड किये हैं जो सामने ही नही आ पाये हैं। 

अंदर की खबर के मुताबिक बीते 14 अगस्त को उच्च स्तर पर हुई कागजी लिखा पढ़ी में इसे देवरिया जिला जेल से हटाने की प्रबल संस्तुति की गयी। डाइनामाइट न्यूज़ के पास मौजूद दस्तावेजों के मुताबिक इसे यहां से हटा आगरा, बाराबंकी, बरेली, गोरखपुर या फिर उन्नाव में से किसी एक जेल में शिफ्ट करने की बात की गयी लेकिन जब उच्च स्तर पर बैठक हुई तो शासन ने यह कहकर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया कि ‘वर्तमान में इसके जेल बदले बदले जाने का कोई औचित्य नही है, जेल मैनुअल के मुताबिक ही इसकी गतिविधियों पर निगरानी रखी जाये।’

फिर घटना घटी 22 नवंबर की जिसमें अतीक ने रंगदारी के लिए इलाहाबाद से टंगवाकर तीन लोगों उमैश अहमद, जैद खालिद और अभिषेक पांडेय को अपने बैरक के अंदर बुलाया औऱ फिर जमकर तुड़ाई करवायी। तुड़ाई इतनी करारी थी कि ये तीनों लंबे समय तक हास्पीटलाइज रहे।

तेवर तो देखिये अतीक के

इस मामले में भी लिखा-पढ़ी हुई और दस्तावेजों के मुताबिक कड़ी कार्रवाई की बात हुई लेकिन फिर अदृश्य ताकतों के हस्तक्षेप से नतीजा सिफर।

 

अब मोहित जायसवाल कांड के बाद हो रही फजीहत से बचने के लिए शासन आज उसकी जेल बदलने वाला है। बेहद भरोसेमंद सूत्रों ने डाइनामाइट न्यूज़ को अंदर की खबर दी है कि अतीक को जिला कारागार बरेली और केन्द्रीय जेल आगरा में से किसी एक जगह शिफ्ट किया जायेगा। इस पर आज हाई-लेवल की मीटिंग होगी जिसमें इस पर मुहर लग जायेगी।

सबसे बड़ा सवाल यहां पर यह है कि जब जिम्मेदारों ने 14 अगस्त को ही लिखा-पढ़ी में इसकी जेल बदलने की सिफारिश कर दी थी तो इसे क्यों माना नही गया? यह अपने आप में एक बड़ी जांच का विषय है तभी इस रहस्य से पर्दा उठ पायेगा कि अतीक के असली संरक्षणदाता हैं कौन?

देवरिया जिला जेल में 500 पुलिस कर्मियों का हल्लाबोल, अतीक अहमद की बैरक के चप्पे-चप्पे को खंगाला

अब बात देवरिया जिला जेल के अधीक्षक की.. अंदर की खबर के मुताबिक इसे चार्जशीट दी जा रही है और इसके तबादले की संस्तुति शासन को करने की तैयारी की जा रही है। 

माफिया अतीक अहमद पर बड़ा खुलासा- देवरिया जिला जेल से खुलेआम चला रहा है.. जमीन कब्जाने, रंगदारी और वसूली का नंगा खेल 

डाइनामाइट न्यूज़ की पड़ताल में एक और तथ्य सामने आय़ा है कि जेल के कर्मियों का मनोबल इन अपराधियों के आतंक के आगे टूटा हुआ है। तीन दिन पहले ही प्रतापगढ़ में जेल के एक सिपाही की हत्या कर दी जाती है। बाइक सवार बदमाशों ने जिला कारागार में तैनात सिपाही हरिनारायण त्रिवेदी की गोली मार कर हत्या कर दी। इस हत्याकांड के पीछे 15 दिन पहले जेल में बंदियों के साथ हुए विवाद को वजह बताया जा रहा है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि गुंडों से जेल में सामान्य सिपाही कड़ाई करे तो कैसे करे.. क्या इसका कोई मुकम्मल इंतजाम सरकार के पास है?

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)