UP: ट्रैफिक सिग्नल पर बाइक सवार युवक ने सिपाही को दी भद्दी गालियां.. रौब झाड़ कर दी धुनाई

डीएन संवाददाता

लखनऊ कैंट थाना क्षेत्र के कुंवर जगदीश चौराहे पर ट्रैफिक सिग्नल पर तैनात एक सिपाही को बाइक सवार युवक को ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने पर रोकना तब भारी पड़ गया जब युवक ने रौब झाड़ते हुये सिपाही की धुनाई कर दी और वहां से फरार हो गया। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें क्या है पूरा मामला


लखनऊः प्रदेश के नागरियों की सुरक्षा करने वाली यूपी पुलिस अब खुद अपनी सुरक्षा के लिये लाचार होती दिख रही है। आलम यह है कि यहां पर पुलिस पर लगातार हमले हो रहे हैं जिससे सुरक्षा व्यवस्था के साथ सरासर खिलवाड़ हो रहा है। ताजा मामला लखनऊ के कैंट थाना क्षेत्र स्थित कुंवर जगदीश चौराहे का है। यहां ड्यूटी पर तैनात ट्रैफिक सिपाही दिलीप कुमार पर एक युवक ने तब हमला कर दिया जब सिपाही ने ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने पर युवक को रोका।    

यह भी पढ़ेंः खौफनाकः घर से गायब बच्ची का मिला शव.. चेहरे को तेजाब से झुलसाया, रेप कर हत्या की आशंका 

 

   

बीच सड़क पर ट्रैफिक पुलिस से उलझता युवक 

 

सिपाही का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने युवक को जब ऐसा करने से रोका तो वह भड़क गया और उसने सिपाही से न सिर्फ अभद्रता की बल्कि उसे भद्दी-भद्दी गालियां दी और फिर मौका पाकर वहां से फरार हो गया। जब पीड़ित सिपाही ने उसका पीछा किया और उसे सीओ कैंट के दफ्तर के पीछे रोका तो आरोपी युवक धर्मेंद्र सैनी ट्रैफिक सिपाही दिलीप कुमार और उसके साथ मौजूद ट्रैफिक होमगार्ड से भिड़ गया। वहीं बीच सड़क पर ट्रैफिक सिपाही से युवक को अभद्रता करते देख वहां देखते ही देखते भीड़ लग गई। हंगामा बढ़ता देख पुलिसकर्मी दिलीप कुमार ने 100 नंबर पर फोन कर के घटना की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम में दी।   

यह भी पढ़ेंः राजस्थान विधानसभा चुनावः BJP में बगावत के स्वर, अब इस विधायक ने पार्टी को मुश्किलों में डाला  

 

   

ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने पर युवक को रोकना पड़ा भारी

 

यह भी पढ़ेंः आयकर मामलाः राहुल, सोनिया के खिलाफ 4 दिसंबर को अंतिम दलील सुनेगा सुप्रीम कोर्ट 

मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों को केंट थाने ले गई। जहां पर थाने की पुलिस किसी अज्ञात दबाव में पीड़ित सिपाही पर समझौता करने के लिए दबाव बनाने लगी। बाद में आरोपी युवक से लिखित में माफीनामा लिखवा कर उसे थाने से छोड़ दिया गया। 

ट्रैफिक सिपाही का दर्द.. शिकायत दबाने का प्रयास

ट्रैफिक सिपाही का कहना है कि इस पूरे मामले में उसकी शिकायत को दबाने का प्रयास किया गया है। वहीं उसका यह भी कहना है कि वह पुलिस महकमे का छोटा कर्मचारी है। ऐसे में उसे वेबजह अपने ऊपर कार्रवाई का भी डर लगा है। मगर पूरे मामले में सबसे बड़ा सवाल यह है कि यदि कोई सख्श ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी पर कैसे हमला करके इस तरीके से थाने से छूट जाता है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …