लखनऊ:सफाई कर्मियों का मांगों को लेकर प्रशासन के खिलाफ 'हल्ला बोल'

डीएन संवाददाता

सफाई कर्मियों ने मंगलवार को नगर निगम अधिकारियों व सरकार के खिलाफ हल्ला बोला। कर्मियों ने हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पर धरना प्रदर्शन किया। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें क्या है सफाई कर्मियों की मांगें


लखनऊ: राजधानी में हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पर सफाई कर्मचारियों ने 12 सूत्रीय मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया। मांगे पूरी न होने पर उन्होने जिला मुख्यालयों पर उग्र प्रदर्शन करने की चेतावनी दी। प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों ने बताया की उन्होंने सरकार को अपनी समस्याओं से सम्बंधित मांगपत्र दिया था। जिसका निराकरण आज तक नहीं हुआ है। जबकि सफाई कर्मचारी प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: UP रोडवेज की बसों में सफर जानलेवा..चार महीने में अब तक गई 200 यात्रियों की जान 

 

सफाई कर्मियों ने बताया प्रदेश में जनसंख्या बढ़ रही है लेकिन अभी तक नई नियुक्तियां नहीं हुई हैं। जबकि पूर्व मुख्यमंत्री ने 40 हजार सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति की घोषणा की थी जो अभी तक नही हो पायी है लेकिन 55 हजार सफाई कर्मचारियों के पद खाली पड़े हुए हैं। उनकी मांग है संविदा सफाई कर्मचारियों को स्थाई नियुक्ति दी जाए। साथ ही सातवें वेतनमान का लाभ दिया जाए। इसके साथ ही कर्मचारियों के मृतक आश्रितों को नौकरी दी जाए और जो सफाई कर्मचारी हाई स्कूल पास होते हैं। उनको प्रोन्नति दी जाए।

यह भी पढ़ें: लखनऊ: पेंशन बहाली समेत विभिन्न मांगों को लेकर कर्मचारियों का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल 

प्रदर्शन करते सफाई कर्मी

विभाग में किये जा रहे सफाई कर्मचारियों का  शोषण पर कारवाही की जाए और पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल की जाए एवं सफाई कर्मचारियों का पद नाम  सफाई नायक किया जाये। कर्मचारियों ने यह भी बताया कि पूर्व में वाल्मीकि समाज का एक पार्षद नामित होता था जिसे पुनः शुरू किया जाये।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार