यूपी की राजधानी में बढ़ा प्रदूषण, लोग हुए परेशान.. जानिये क्या कह रहे हैं लोग

डीएन संवाददाता

देश में प्रदूषण की समस्या लगातार बढती जा रही है। शहर में बढते प्रदूषण की समस्या को कम करने के लिए लखनऊ के अलग-अलग हिस्सों में सड़कों पर पानी का छिड़काव कराया जा रहा है। डाइनामाइट न्यूज की स्पेशल रिपोर्ट में जानिये क्या बोले राजधानी के लोग..


लखनऊ: राजधानी में लगातार बढ़ती प्रदूषण की समस्या को कम करने के लिए जिला प्रशासन की ओर से कई इंतजाम किए जा रहे हैं। जिसमें प्रमुख रूप से भीड़ भाड़ वाली सड़कों पर पानी का छिड़काव कराया जा रहा है। कुछ दिन पहले लखनऊ डीएम कौशल राज शर्मा ने भी बातचीत करते हुए बताया था कि अगर प्रदूषण की समस्या ज्यादा बढ़ी तो सड़कों के साथ-साथ पेड़ों पर भी पानी का छिड़काव कराया जाएगा। इसी को लेकर लखनऊ के गोसाईगंज समेत आसपास के कई इलाकों में सड़कों पर पानी का छिड़काव कराया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: लखनऊ: संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लगने से सीआरपीएफ जवान की मौत 

सड़कों पर किया गया पानी का छिड़काव

 प्रदूषण की बढ़ती समस्या को लेकर के जब डाइनामाइट न्यूज़ ने लोगों से बात की तो सभी लोगों ने अपने अलग-अलग विचार साझा किए। लखनऊ में बढ़ रहे प्रदूषण पर बोलते हुए एक व्यक्ति मनोज ने बताया कि लखनऊ में पानी का छिड़काव कराने से प्रदूषण की समस्या नहीं खत्म होगी। बल्कि इसके लिए सरकार को अधिक से अधिक पौधों को लगाने का काम कर आना चाहिए। जिससे प्रदूषण की समस्या पर काफी लगाम लगाई जा सकेगी।

यह भी पढ़ें: यूपी में कई सीनियर आईपीएस अफसरों के होंगे प्रमोशन, जल्द आयेगी तबादला सूची

वहीं एक दूसरे व्यक्ति आशु पाल ने बताया कि प्रदूषण की समस्या काफी गंभीर समस्या है और पानी का छिड़काव कराना एक सही कदम है। साथ ही इसके साथ और भी उपाय किए जाने चाहिए। वहीं एक और महिला नीरा सक्सेना ने बताया कि प्रदूषण के कारण लखनऊ वासियों को काफी दिक्कतें हो रही हैं। जिनमें प्रमुख रूप से सांस लेने में तकलीफ होना सांस फूलना इस तरह की समस्याएं देखने को मिल रही है।

यह भी पढ़ें: मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन जगह-जगह सपाईयों ने मनाया धूमधाम से

प्रदूषण की समस्या को कम करने के लिए सरकार के साथ साथ हम लोगों को भी अपने स्तर पर प्रयास किए जाने की जरूरत है। कुल मिलाकर प्रदूषण की समस्या ठंड बढ़ने के साथ साथ बढ़ती जा रही है। इसके लिए सरकार को विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श कर किसी ठोस रणनीति पर काम करना होगा। जिससे आने वाले समय में प्रदूषण की समस्या को कंट्रोल किया जा सकें।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …