कानपुर ऑर्डिनेंस फैक्‍ट्री धमाके में घायल एक और इंजीनियर की मौत, बैरल टेस्टिंग के दौरान फटा था सिलेंडर

डीएन ब्यूरो

ऑर्डिनेंस फैक्‍ट्री में तोप की बैरल टेस्टिंग के दौरान नाइट्रोजन के सिलेंडर में हुए हादसे में एक इंजीयनियर की मौके पर ही हो गई थी मौत। जबकि पांच अफसरों समेत आठ कर्मचारी घायल हुए हैं। जिनमें से एक इंजीनियर की आज मौत हो गई।

धमाके के बाद राहत कार्य में जुटे पुलिसकर्मी।
धमाके के बाद राहत कार्य में जुटे पुलिसकर्मी।

कानपुर: आर्डिनेंस फैक्‍ट्री में हुए धमाके में आज एक और इंजीनियर की मौत हो गई। हादसा कल देर शाम हुआ था। जिसमें एक इंजीनियर की घटनास्‍थल पर ही मौत हो गई थी जबकि 8 लोग घायल हो गए थे। इनमें से एक घायल की हालत गंभीर होने के कारण उसे रीजेंसी अस्‍पताल रेफर कर दिया गया था। दुर्घटना के कारणों की जांच टीम पड़ताल कर रही है।

सेना के लिए धनुष और शारंग जैसी आधुनिक तोप बनाने वाली आर्डिनेंस फैक्‍ट्री में धमाका हो गया था। फैक्‍ट्री कानपुर में अर्मापुर थाना इलाके में है। मंगलवार देर शाम को फैक्ट्री के अन्दर तोप की बैरल की टेस्टिंग का काम चल रहा था। बैरल में नाइट्रोजन सिलेंडर लगा हुआ था। इसी दौरान बैरल की टेस्टिंग में नाइट्रोजन सिलेंडर फट गया। 

घमाका इतना जबरदस्त था कि आसपास खड़े अधिकारी कर्मचारी उसकी चपेट में आ गए। इसमें जबलपुर निवासी सहायक अभियंता एमएस राजपूत की मौके पर ही मौत हो गई थी। हादसे में अपना एक पैर गंवा बैठे सहायक अभियंता प्रताप सिंह और परीक्षक एमपी महतो को नाजुक हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उपचार के दौरान परीक्षक एमपी महतो ने भी दम तोड़ दिया।

इटारसी की आयुध निर्माण फैक्ट्री में एसिड रिसाव

जबकि, अन्‍य घायल असिस्टेंस इंजीनियर प्रताप सिंह, पंकज श्रीवास्तव, संदीप केलकर, एग्जामिनर द्वारिका, लेबर रामचंद्र और करुना शंकर का इलाज चल रहा है।

फैक्‍ट्री के जांच अधिकारी भीम राव ने बताया कि एलएफजी गन के बैरल की टेस्टिंग का काम हो रहा था। इसी दौरान यह हादसा हुआ कारणों की जांच की गई है। इसमें किसी को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …