चार साल में एक के बाद एक देश में हुए बड़े आतंकी हमलों पर एक नजर..

डीएन ब्यूरो

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने एक बार फिर से सुरक्षाकर्मियों को निशाना बनाया है। पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने आत्मघाती हमला किया है, जिसमें 30 जवानों के शहीद होने की खबर है और साथ ही 40 से ज्यादा जवानों के घायल होने की खबर सामने आ रही है। डाइनामाइट न्यूज की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने एक बार फिर से सुकक्षाकर्मियों को निशाना बनाया है। पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने आत्मघाती हमला किया है, जिसमें 30 जवानों के शहीद होने की खबर है और साथ ही 40 से ज्यादा जवानों के घायल होने की खबर भी सामने आ रही है। ये 2019 का अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला है।

4 साल में हुए बड़े आतंकी हमले

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब भारतीय जवानों के उपर इस तरह से आतंकी हमला हुआ है, जिसमें कितने ही जवान देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए।


 

आइए अब हम डालते हैं पिछले चार सालों के भीतर भारत में हुए बड़े आतंकी हमलों पर एक नज़र

साल 2014 

-सबसे पहले पहले हम बात करते हैं साल 2014 के बड़े आतंकी हमले की। 5 दिसंबर 2014 में बारामुला के उरी सेक्टर में सेना के 31 फील्ड रेजिमेंट पर हमला हुआ था, जिसमें एक लेफ्टिनेंट कर्नल और 7 जवान शहीद हुए।इसके अलावा जम्मू-कश्मीर का एक एएसआई और 2 कांस्टेबल भी शहीद हुए थे।

यह भी पढ़ें: साल का सबसे बड़ा आतंकी हमला.. कश्मीर में CRPF काफिले को आतंकियों ने उड़ाया, 30 जवान शहीद, 40 घायल

साल 2015

-27 जुलाई 2015 को पंजाब के गुरदासपुर में तीन आतंकियों ने दीना नगर पुलिस स्टेशन पर हमला किया जिसमें एसपी सहित 4 पुलिसकर्मी और 3 सिविलियन भी मारे गए।

साल 2016

-2 जनवरी 2016 को पंजाब प्रांत के जैश-ए-मोहम्मद के 6 आतंकियों ने घुसपैठ की और पठानकोट एयरबेस को निशाना बनाया। 4 दिन लंबे चले इस 7 जवान शहीद हुए।हमले में पाक सेना भी शामिल थी। इसके साथ ही 18 दिसंबर 2016 को उरी में हुए आतंकी हमले में 20 जवान शहीद हुए थे, जिसमें 15 जवान बिहार रेजिमेंट और 5 जवान डोगरा रेजिमेंट के थे। इस हमले में आतंकियों को भी मार गिराया गया था।

साल 2017

साल 2017 में भोपाल-उज्जैन ट्रेन में बड़ा बम धमाका हुआ था , जिसमें काफी संख्या में यात्रियों के हताहत होने की खबर सामने आई थी। इसके साथ ही 10 जुलाई 2017 को अमरनाथ के दौरान भी आतंकी हमले हुए थे, जिसमें काफी श्रद्धालुओं के मरने की खबर सामने आई थी।

साल 2018

साल 2018 में श्रीनगर में करन नगर में आतंकी हमले हुए थे, जिसमें रात भर आतंकियों की ओर से फायरिंग का गई थी। इस हमले की जिम्‍मेदारी हाफिज सईद के अगुवाई वाले आतंकी संगठन लश्‍कर-ए-तैयबा ने ली है। इस हमले में सीआरपीएफ का एक जवान भी शहीद हो गया था।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार