फतेहपुर को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिये जिलाधिकारी की मैराथन बैठकें, ग्राम प्रधानों में हड़कंप

डीएन ब्यूरो

जिलाधिकारी आंजनेय कुमार ने 15 सिंतबर तक फतेहपुर को खुले में शौच मुक्त बनाने का लक्ष्य रखा हुआ है, जिसके लिये वह लगातार ब्लॉक स्तर पर ग्राम प्रधानों के साथ बैठकें कर रहे हैं और खुद ही कार्य प्रगति की समीक्षा कर रहे है। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

बैठक लेते जिलाधिकारी आंजनेय कुमार
बैठक लेते जिलाधिकारी आंजनेय कुमार

फतेहपुर: जिलाधिकारी आंजनेय कुमार द्वारा जिले को 15 सिंतबर तक खुले में शौच मुक्त बनाने के लिये शुरू की गयी पहल को यहां जमकर सराहा जा रही है। दरअसल जिलाधिकारी इस लक्ष्य को पाने के लिये खुद ही इससे संधित कार्यों की मॉनिटरिंग कर रहे है और ग्राम प्रधान से लेकर जिले के प्रमुख अधिकारियों संग लगातार बैठक कर जरूरी दिशा-निर्देश देने के साथ ही जनता को इसके लिये प्रेरित कर रहे हैं। कार्यों में फिसड्डी पाये जाने वालों की जिलाधिकारी द्वारा जमकर क्लास भी ली जा रही है।

हर हाल में लक्ष्य प्राप्ति, मिलेगी हर मदद

जिले को खुले में शौच मुक्त बनाने के अहम लक्ष्य को पाने के प्रति जिलाधिकारी कितने गमभीर है, इसकी बानगी गुरूवार को तीन ब्लॉकों के ग्राम प्रधानों संग की गयी बैठक में भी देखने को मिली। इस बैठक में मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) चांदनी सिंह भी मौजूद रहीं। इस बैठक में तीनो ब्लॉकों के ग्राम प्रधानों के कार्यों की समीक्षा की गयी और हर हाल में उनसे लक्ष्य प्राप्त करने को कहा गया। प्रशासन द्वारा ग्राम प्रधानों को लक्ष्य प्राप्ति के लिये हर तरह की सहायता मुहैय्या कराने की बात कही गयी।

जब जिलाधिकारी ने लगाई लताड़

इस अहम और मैराथन बैठक में झपकी ले रहे कुछ ग्राम प्रधानों पर जब जिलाधिकारी की नजर पड़ी तो सुस्त ग्राम प्रधानों को डीम में मौके पर ही जमकर लताड़ भी लगाई और आगे के लिये सख्त चेतावनी दे डाली। सभी के कार्यों का भी आंकलन किया गया।

फिसड्डी ग्राम प्रधानों को हिदायत 

इस बैठक में अच्छे कार्य करने वाले प्रधानों की जिलाधिकारी ने सराहना भी की। औसत प्रदर्शन करने वालों को खूब प्रेरित भी किया गया और काम में फिसड्डी रहने वालों को सुधरने की हिदायत दी गयी। बैठक में असोथर और बहुआ ब्लॉक के ग्राम प्रधान अब तक सबसे ज्यादा फिसड्डी पाये गये, जिन्हें कार्य में तेजी लाने की हिदायत दी गयी। हसवा ब्लॉक का ग्राम प्रधानों का कार्य औसत दर्जे का पाया गया।

40 ग्राम प्रधानों को नोटिस

जिलाधिकारी ने ग्राम प्रधानों को सख्त हिदायत दी कि वे कार्यों को गंभीरता से लें। जनहित की योजनाओं में जनता से किसी तरह की वसूली न करें। डीएम ने साफ किया कि वसूली की शिकायतें मिलने पर ग्राम प्रधानों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। बैठक में नदारद रगने वाले 40 ग्राम प्रधानों को नोटिस भी जारी किया जा चुका है।

सीडीओ बोलीं- हर समस्या का होगा निराकरण

सीडीओ ने ग्राम प्रधानों से अपनी समस्याएं बताने को कहा ताकि उनका निराकरण किया जा सके। सीडीओ ने कहा कि योजनाओं में धन की कमी को आड़े नहीं आने दिया जायेगा। ग्राम प्रधानों से मैनपॉवर, तकनीकि आदि तरह की समस्याओं को सामने ऱखने को भी कहा गया। 

मुहिम की जमकर सराहना

इस बैठक में प्रतिभाग करने वाले कुछ ग्राम प्रधानों ने जिलाधिकारी के इस मुहिम की जमकर सराहना की है लेकिन प्रशासन के सख्त तैवरों को लेकर ग्राम प्रधानों में काफी हड़कंप भी मचा हुआ है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार