योगी और मायावती पर चुनाव आयोग का सख्‍त कदम, प्रचार पर लगी रोक

डीएन ब्यूरो

आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाया है। चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती के प्रचार करने पर रोक लगा दी है।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 के प्रचार के दौरान मुस्लिमों को एक पक्ष में वोट करने की अपील मायावती को भारी पड़ गई। वहीं योगी को भी इसके जवाब में कही टिप्‍पणी पर चुनाव आयोग ने शिकंजा कसा है। चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर 72 घंटे और बसपा सुप्रीमो मायावती पर 48 घंटे प्रचार करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

यूपी: सहारनपुर में मायावती और अखिलेश यादव ने संयुक्त महारैली को किया संबोधित.. जानें मुख्य बातें

अब योगी आदित्‍यनाथ और मायावती प्रतिबंधित समय में न ही कोई रैली कर पाएंगे और न ही सोशल मीडिया का इस्‍तेमाल कर सकेंगे। चुनाव आयोग के इस प्रतिबंध का समय मंगलवार सुबह 6 बजे से शुरु होगा। इस फैसले से स्‍पष्‍ट हो गया है कि योगी आदित्यनाथ 16, 17 और 18 वहीं मायावती 16 और 17 अप्रैल चुनाव प्रचार नहीं कर सकेंगी। 

लोकसभा चुनाव : मायावती 45 दिनों में 100 से अधिक जनसभाओं से मतदाताओं तक पहुंचाएंगी अपनी बात, उड़ीसा से होगा आगाज

चुनाव आयोग का यह काफी कड़ा कदम है। इन बिन्‍दुओं से समझें कहां कहां लागू होगा निर्वाचन आयोग का यह नियम।

  • नहीं कर सकेंगे कोई चुनावी सभा।
  • किसी टीवी को नहीं दे पाएंगे साक्षात्‍कार।
  • चुनाव को प्रभावित करने वाला कोई ट्वीट नहीं करने पर प्रतिबंध।
  • सार्वजनिक कार्यक्रम में शामिल होने पर रोक।
  • किसी तरह का कोई भी रोड शो पर प्रतिबंध।

​​​​16 उम्‍मीदवारों का ऐलान.. देवरिया, जौनपुर और डुमरियागंज से भी बसपा प्रत्‍याशी घोषित

वहीं इन धार्मिक बयानबाजियों से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को सुनवाई की। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए निर्वाचन आयोग से पूछा कि आचार स‍ंहिता का उल्‍लंघन करने वाले इन बयानों पर क्‍या कार्रवाई की है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?