बदलते मौसम के तेवर से कई फसले बुरी तरह से प्रभावित, किसान परेशान

डीएन ब्यूरो

मार्च में तीन दौर की हुई भारी बरिश, ओलावृष्टि और तेज हवाओं से रबी फसलों को नुकसान हुआ है जबकि फलों के राजा आम की बौर (मंजर) को भारी क्षति हुई है और इसमें बीमारी बढ़ने के खतरे के साथ ही परागण की समस्या हो रही है।

बेमौसम बारिश से फसलों को हुई  भारी क्षति (फाइल फोटो)
बेमौसम बारिश से फसलों को हुई भारी क्षति (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  मार्च में तीन दौर की हुई भारी बरिश ओलावृष्टि और तेज हवाओं से रबी फसलों को नुकसान हुआ है जबकि फलों के राजा आम की बौर (मंजर) को भारी क्षति हुई है और इसमें बीमारी बढ़ने के खतरे के साथ ही परागण की समस्या हो रही है। असमय हुयी मूसलाधार बारिश और ओले गिरने से उत्तर प्रदेश के अलावा कई अन्य स्थानों में आम की फसल को नुकसान हुआ है। कहीं आम के बौर को क्षति हुयी है तो कुछ स्थानों में मौसम के कारण परागण की समस्या आ रही है। यह स्थिति पिछले कई दिनों से बादल और कम तापमान के कारण परागकर्ता की कमी से हुयी है।

यह भी पढ़ें: Weather Highlights बेमौसम हुई बरसात और ओलावृष्टि से किसान बेहाल
केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान लखनऊ के निदेशक शैलेन्द्र राजन के अनुसार 20 मार्च के बाद तापमान के बढ़ने की संभावना है और यदि ऐसा होता है तो बौर की बढ़वार ठीक से नहीं हो पायेगी। उन्होंने बताया कि तापमान में उतार चढ़ाव और नमी के कारण आम में फूफूंद जनित रोगों तथा कई दूसरी बीमारियों के लगने का खतरा बढ़ गया है जिससे प्रभावित होने पर आम की फसल को नुकसान हो सकता है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के कृषि प्रौद्योगिकी आकलन एवं स्थनान्तरण केन्द्र के प्रमुख डा जेपीएस डबास ने बताया कि बेमौसम बरसात,ओले और तेज हवाओं से गेहूं, दलहनी, तिलहनी, सब्जियों, आलू और इसबगोल की फसल को नुकसान हुआ है। उन्होंने क्षति के बारे में पूछे जाने पर कहा कि आंकड़ों के आने पर इसका अनुमान लगाया। (वार्ता) 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार