प्रत्यक्ष कर संग्रह अप्रैल-दिसंबर 2018 में 8.74 लाख करोड़ रुपये.. 14.1 प्रतिशत की हुई बढ़त

डीएन ब्यूरो

देश में प्रत्यक्ष कर संग्रह अप्रैल-दिसंबर 2018 में 14.1 फीसद बढ़कर 8.74 लाख करोड़ रुपये रहा। इस दौरान आयकर विभाग ने 1.30 लाख करोड़ का रिफंड भी किया जो पिछले वर्ष के मुकाबले 17 फीसद अधिक है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली:  चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-दिसंबर की अवधि में प्रत्यक्ष कर संग्रह 14.10 प्रतिशत बढ़कर 8.74 लाख करोड़ रुपये रहा। वित्त मंत्रालय की और से सोमवार को यह जानकारी दी। वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘दिसंबर 2018 तक प्रत्यक्ष कर संग्रह के शुरुआती आंकड़ों से पता चलता है कि यह पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 14.10 प्रतिशत अधिक हो कर 8.74 लाख करोड़ रुपये रहा है।’ 

यह भी पढ़ें: शेयर बाजारों में गिरावट के बाद भी चमके सोना-चांदी.. जाने क्या है नए रेट 

 

रिफंड के समायोजन के बाद शुद्ध कर संग्रह 7.43 लाख करोड़ रुपये रहा है। इसमें पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 13.60 फीसद की वृद्धि हुई है। जबकि चालू वित्त वर्ष के बजट में प्रत्यक्ष शुद्ध कर संग्रह 11.50 लाख करोड़ रुपये रखा गया है। इस प्रकार बजट लक्ष्य के 64.70 प्रतिशत की प्राप्ति हुई है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली में हुआ साल का सबसे सस्ता पेट्रोल-डीजल,जानें क्या है रेट 

वहीं कॉरपॉरेट कर और व्यक्तिगत आय कर की बात की जाए तो रिफंड के बाद कॉरपोरेट करों के संग्रह में 16 प्रतिशत की तथा व्यक्तिगत आयकर संग्रह में 14.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। आलोच्य अवधि के दौरान अग्रिम कॉरपोरेट करों में 12.5 प्रतिशत तथा अग्रिम व्यक्तिगत आयकर प्राप्तियों में 23.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

वित्त मंत्रालय ने कहा, ‘यह जिक्र किया जाना जरूरी है कि पिछले वित्त वर्ष के कर संग्रह में आय खुलासा योजना के तहत प्राप्त अतिरिक्त राशि भी शामिल थी जो कि इस बार नहीं है।’
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …