OMG! महिला ने 4 बच्चों को दिया जन्म, सुनकर रह गए ना दंग

डीएन ब्यूरो

मातृत्व का एहसास हर एक महिला के लिए बेहद ही सुखद होता है। लेकिन डिलीवरी के दौरान कभी- कभी डॉक्टर भी हैरान हो जाते हैं जब ऐसे चमत्कारिक बच्चे जन्म लेते हैं, जिसे देखकर सब दंग रह जाते हैं। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्लीः हर वह महिला जो पहली बार मां बनती है तो यह उसके लिए बड़ा ही सुखद और अलग अहसास वाला पल होता है। शायद ही इस दुनिया में कोई ऐसी महिला होगी जो मातृत्व का अपना पहला अनुभव न लेना चाहती हो।

लेकिन जब कोई प्रसूता एक नवजात की जगह पर चार बच्चों को जन्म दे तो इसे चमत्कार नहीं तो और क्या कहा जाएगा। हैरान कर देना वाला ऐसा ही एक मामला आया है उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में। यहां एक प्रसूता ने तीन बच्चियों व एक बालक को जन्म दिया है। जन्म के बाद से सभी स्वस्थ बताए गए हैं।

यह भी पढ़ें: हैरान करने वाली खबर: मां का दूध नवजात बच्चे के लिए बना जहर..

यहां मसौधा ब्लॉक के रानीबाजार गांव के रहने वाले विष्णु जायसवाल की पत्नी शिल्पी जायसवाल(23) को प्रसव से पूर्व शहर के एक निजी अस्पताल में ले जाया गया। यहां प्रसूता की जांच की गई तो उनके नवजात की संख्या चार होने की उम्मीद जताई गई। इस पर प्रसूता की जांच कर रही डॉक्टर ने निर्णय लिया की उसका ऑपरेशन 33 सप्ताह पहले किया जाए।

ऑपरेशन थिएटर (फाइल फोटो)

ऑपरेशन के बाद जच्चा- बच्चा दोनों स्वस्थ

जब सोमवार की शाम 7 बजे प्रसूता का सीजेरियन ऑपरेशन हुआ तो उसने चार बच्चों को जन्म दिया। सभी नवजातों का वजन 1.700 किलोग्राम के आसपास है। प्रसव के बाद जच्चा- बच्चा दोनों स्वस्थ है। हालांकि उन्हें रूटीन चेकअप के लिए फिलहाल महिला अस्पताल के एनआइसीयू में रखा गया है।

क्या कहते हैं डाक्टर

इन चारों नवजातों की देखभाल कर रहे डॉक्टरों का कहना हैं कि हर वह नवजात जिसका वजन 2 किलोग्राम हो वह स्वस्थ होगा। लेकिन इस केस में इन सभी नवजातों का वजन इससे कम यानी 1.700 किलोग्राम है, इसलिए इनकी देखरेख की जा रही हैं ताकी इनमें से किसी भी नवजात को कोई खतरा न हो।

इससे पहले यहां भी आए ऐसे मामले

1. मुरादाबाद के गांव सरकरा ठाकुरद्वारा में 18 जनवरी 2018 को जब एक गर्भवती महिला बीना को प्रसव पीड़ा हुई तो उसे यहां के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया।जहां महिला ने ऑपरेशन के दौरान एक साथ तीन नवजात शिशुओं को जन्म दिया। इन नवजातों में एक लड़का व दो लड़कियां हुई, महिला का ऑपरेशन करने वाले डॉक्टरों ने जच्चा- बच्चा दोनों को स्वस्थ बताया।

2. छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिला अस्पताल अप्रैल 2016 में एक महिला ने एक साथ पांच बच्चियों को जन्म दिया था। बिनकारा गांव की रहने वाली मनिका राजवाड़े(23) को अंबिकापुर के एक सरकारी अस्पताल में प्रसव के लिए भर्ती करवाया गया था। जहां उसने पांच बच्चियों को जन्म दिया।

3. हिमाचल प्रदेश के जोनल अस्पताल मंडी में एक महिला ने जून 2017 में 3 बच्चों को जन्म दिया। कोटली तहसील के गांव कुम्हारडा में रहने वाली 22 वर्षीय कंचना देवी का जब अल्ट्रासाउंड किया गया तो पता चला कि उसे गर्भ में 3 बच्चे हैं। ऑपरेशन के बाद तीनों नवजात व मां बिल्कुल स्वस्थ बताई गई थी।

4.यूपी के ग्रेटर नोएडा में दनकौर ब्लॉक क्षेत्र के दादूपुर गांव में एक महिला ने 26 अक्टूबर 2017 को यहां स्थित बाबा सूखामल अस्पताल में 3 नवजात को जन्म दिया था। गजेंद्र की पत्नी मंजू(20) का ऑपरेशन करने वाले डाक्टरों का कहना था कि जन्म के बाद से जच्चा- बच्चा दोनों स्वस्थ थे। महिला ने 2 लड़कियों व एक लड़के को जम्म दिया।

यह भी पढ़ें: DN Exclusive- योगी के यूपी में कुपोषण का शिकार क्यों बन रहे हैं नौनिहाल?

एक साथ क्यों हो रहे एक से ज्यादा बच्चे

साइंस की दृष्टि से देखे तो पता चलता हैं कि एक प्रसूता एक बार में एक बच्चे को जन्म दे तो यह जच्चा- बच्चा दोनों के लिए बेहतर रहता है। दूसरा वैज्ञानिक दृष्टिकोण यह भी हैं कि एक महिला एक समय में कितने बच्चों को जन्म दे सकती है, इसकी कोई तय सीमा नहीं बताई गई है।

लेकिन अगर डिलीवरी के दौरान एक से ज्यादा बच्चे पैदा होते हैं तो ऐसे केस में जन्म के बाद इन बच्चों के बचने की संभावना काफी कम रहती है। अगर ये बच्चे बच भी जाए तो इनका शारीरिक विकास रुक जाता है और बड़े होने पर यह किसी न किसी बीमारी की चपेट में आ जाते है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार