देखिये.. कैसे, नक्सलियों की ताबड़तोड़ फायरिंग के बीच दूरदर्शन के दो पत्रकारों ने बचाई जान

डीएन ब्यूरो

नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में मंगलवार को नक्सली हमले में दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू समेत तीन लोग शहीद हो गये। डाइनामाइट न्यूज़ को इस हमले से जुड़ा एक वीडियो प्राप्त हुआ है, जिसमें देखा जा सकता है कि यह हमला कैसे हुआ और दूरदर्शन के दो पत्रकारों ने कैसे अपनी जान बचाई..


नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के अंतर्गत अरनपुर थाना क्षेत्र में मंगलवार को नक्सलियों के एक हमले में छत्तीसगढ़ पुलिस के एक उपनिरीक्षक रुद्र प्रताप सिंह, एक सहायक आरक्षक मंगलु और दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू शहीद हो गये। इस हमले का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि ताबड़तोड़ फायरिंग के बीच कैमरामैन  अच्युतानंद साहू के सहयोगी मोर मुकुट शर्मा ने बड़े ही साहसपूर्ण तरीके से अपनी जान बचाई।

यह भी पढ़ें: दूरदर्शन के कैमरामैन की मौत से उठे सवाल, दो महीने में तीन बड़े हादसे, जिम्मेदार मौन 

 

 

छत्तीसगढ़ में चुनाव संबंधित कवरेज के लिये गये दिल्ली से गयी दूरदर्शन की टीम में नक्सलियों के इस हमले में दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू शहीद हो गये थे जबकि सहायक कैमरामैन मोर मुकुट शर्मा और पत्रकार धीरज कुमार इस हमले में बाल-बाल बच गये।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: दंतेवाड़ा में दूरदर्शन की टीम पर नक्सली हमला, कैमरामैन सहित 3 की मौत 

 

 

इस हमले से जुड़ा वीडियो हैरान करने वाला और चौका देने वाला है। सहायक कैमरामैन मोर मुकुट शर्मा नकस्लियों की फायरिंग के बीच जमीन पर लेटे-लेटे एक तरह से लाइव रिपोर्टिंग कर रहे है और यह भी अंदेशा जता रहे हैं कि शायद अगले पल वह जिंदा न रहें। उनके पीछे से लगातार नक्सलियों की गोली-बारी जारी है। 

मोर मुकुट शर्मा

 

शर्मा इस वीडियो में कह रहे हैं कि मौत उनके सामने खड़ी है लेकिन उन्हें बिल्कुल भी डर नहीं लग रहा है। शर्मा एक बार भावुक जरूर नजर आते है और कहते है कि वह अपनी मां से बहुत प्यार करते हैं। वह मां को संदेश देते हुए कहते है कि यदि मैं इस हमले में बच गया तो गनीमत है। शर्मा यह भी बताते हैं कि किस तरह नक्सलियों ने उनकी टीम पर उस समय हमला किया जब रास्ते से गुजर रहे थे।

हमले से पहले का फोटो

 

नक्सली अटैक समेत इस घटना के पहले और बाद के कुछ वीडियो और फोटो भी सामने आये है।

 

 

मंगलवार की इस घटना को लेकर दंतेवाड़ा के एसपी का कहना था कि नक्सलियों के हमले के बाद कैमरामैन काफी घायल अवस्था में था। साहू को प्राथमिक चिकित्सा के लिये जवान ले जा रहे थे कि लेकिन उन्होंने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

 

एक अन्य वीडियो में इस हमले में शहीद कैमरामैन अच्युतानंद साहू के कराहने की आवाज को भी साफ सुना जा सकता है। नक्सिलयों की फायरिंग के बीच साहू दर्द से कराह रहे हैं। 

रास्ते पर नक्सलियों द्वारा लगाये पोस्टर

 

हालांकि एक अन्य वीडियो में पुलिस औऱ वहां मौजूद सुरक्षाबल तुरंत एम्बुलेंस लाने को बोल रहे है। एक अन्य वीडियो में जान बचाने के लिये जमीन पर लेटा व्यक्ति सुरक्षा बलों के जवानों से पूछ रहा हैं कि क्या वह अब सुरक्षित है।

घटना के बाद मौके पर पहुंची प्रशासन की टीम 

देश के सबसे बड़े जन प्रसारक दूरदर्शन न्यूज़ के रिपोर्टर और कैमरामैन.. सभी अपनी जान पर खेलकर देश के दुर्गम इलाकों में अपने काम को अंजाम देते हैं लेकिन इनकी कोई सुध लेने वाला नही है। 

छत्तीसगढ़ में मंगलवार को नक्सली हमले की घटना के बाद दूरदर्शन के कर्मचारियों में गहरा आक्रोश है। डीडी न्यूज़ से जुड़े कई पत्रकारों ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया कि यहां सब कुछ राम भरोसे है। घटना घटने के बाद दिखावटी सहानभूति। कोई मुकम्मल व्यवस्था नही कि ड्यूटी पर.. जख्मी होने या शहीद होने पर क्या होगा? मेडिकल क्लेम से लेकर आर्थिक सहायता तक किसी चीज की स्पष्ट नीति नहीं है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार