केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह पर बदलेगी यातायात व्यवस्था, इन रूट्स पर एंट्री रहेगी बंद

डीएन ब्यूरो

मनोनीत मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के रविवार को रामलीला मैदान में शपथ ग्रहण समारोह के मद्देनजर आसपास के इलाके में भीड़ भाड़ की संभावना को देखते हुए दिल्ली यातायात पुलिस ने परामर्श जारी किया है।

अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)
अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: मनोनीत मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के रविवार को रामलीला मैदान में शपथ ग्रहण समारोह के मद्देनजर आसपास के इलाके में भीड़ भाड़ की संभावना को देखते हुए दिल्ली यातायात पुलिस ने परामर्श जारी किया है। दिल्ली यातायात पुलिस की तरफ से शनिवार को जारी परामर्श में कहा गया है कि रविवार को सुबह आठ बजे से अपराह्न दो बजे तक रामलीला मैदान क्षेत्र में यातायात पर प्रतिबंध रहेगा। यातायात पुलिस ने कहा है कि शपथ ग्रहण समारोह में आने वाले अपने वाहन सिविक सेंटर, माता सुंदरी रोड, पावर हाउस रोड, वेलाड्राम रोड, राजघाट, रोड, शांति वन पार्किंग, सर्विस रोड राजघाट और समता स्थल पर पार्क कर सकते हैं।

शपथ ग्रहण समारोह को कवर करने के लिए रामलीला मैदान पर मीडिया के ओबी वेन जवाहर लाल नेहरु मार्ग की फुटपाथ पर खड़े करने की सलाह दी गई। भीड़ की संभावना को देखते हुए बसों को राजघाट चौक और दिल्ली गेट चौक से गुरु नानक चौक वाया जवाहर लाल नेहरु मार्ग पर प्रतिबंधित किया गया है। किसी प्रकार के वाणिज्यिक वाहनों और बसों को छत्ता रेल से दिल्ली गेट चौक वाया नेताजी सुभाष मार्ग जाने की अनुमति नहीं होगी। इसके अलावा पहाड़गंज चौक से नेताजी सुभाष मार्ग पहाड़गंज चौक से अजमेरी गेट वाया डीबीजी रोड रामचरन अग्रवाल चौक से दिल्ली गेट चौक वाया बहादुरशाह जफर मार्ग दीनदयाल उपाध्याय मिंटो रोड से कमला मार्केट चौक वाया विवेकानंद मार्ग और बाराखंबा टालस्टाय से रणजीत सिंह फ्लाईओवर पर भी वाणिज्यिक वाहनों और बसों का आवागमन प्रतिबंधित रहेगा।
आम आदमी पार्टी(आप) के राष्ट्रीय संयोजककेजरीवाल रविवार को रामलीला मैदान में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने श्री केजरीवाल और उनके मंत्रिमंडल के छह अन्य सदस्यों की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है। ग्यारह फरवरी को सातवीं दिल्ली विधानसभा के आए परिणामों में आप पार्टी ने एक बार ऐतिहासिक जीत हासिल करते हुए 70 में से 62 सीटें जीती हैं। केजरीवाल लगातार तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे और वह इसी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत शीला दीक्षित के रिकार्ड की बराबरी करेंगे। दिवंगत दीक्षित 1998 से 2013 तक लगातार तीन बार पंद्रह वर्षों तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। (वार्ता) 

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार