आजमगढ़: वेदांता अस्पताल के खिलाफ जनाक्रोश जारी, डॉक्टरों की प्रतीकात्मक शव यात्रा निकाली

डीएन संवाददाता

डॉक्टर के पेशे को शर्मसार करने वाले वेदांता अस्पताल के खिलाफ लोगों का गुस्सा जारी है। आक्रोशित जनता ने अस्पताल के डॉक्टरों की प्रतीकात्मक शव यात्रा निकाली। पूरी खबर..

शव यात्रा निकालते लोग

आजमगढ़: वेदांता अस्पताल को लेकर लोगों का गुस्सा दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। सोमवार को प्रयास समाजिक संगठनयुवा मंच ने मिलकर अस्पताल के डॉक्टर शिशिर जायसवाल की प्रतीकात्मक शवयात्रा निकाली जो शहर के विभिन्न स्थानों से होते हुए मेहता पार्क तक पहुंची। मेहता पार्क में प्रतीकात्मक शव का विधिवत दाह संस्कार किया गया।

इस दौरान लोगों ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और अस्पताल का लाइसेंस निरस्त करने की मांग की।

यह है विवाद की जड़

दरअसल वेदांता अस्पताल में डॉक्टर पैसों के लालच में एक व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी उसके शव का इलाज कर रहे थे। जब तीमारदारों ने डॉक्टर शिशिर के जायसवाल और स्टाफ से शव मांगा तो स्टाफ के लोगों ने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया और उनके साथ मारपीट भी की। अस्पताल की तानाशाही के खिलाफ जिले के सामाजिक संगठन लामबंद हो चुके है और अस्पताल प्रशासन के खिलाफ कार्यवाही की मांग कर रहे है।

प्रयास संस्था के अध्यक्ष रणजीत सिंह के अनुसार मानवीय संवेदनाओं को तार-तार कर देने वाली यह घटना मानवता को शर्मसार कर देने वाली है। लाशों के नाम पर कारोबार करने वाले को किसी भी सभ्य समाज में स्वीकृति नहीं मिलनी चाहिए।

सीएमओ कर रहे हैं मामले की जांच

फिलहाल पूरे प्रकरण की जांच सीएमओ को सौंपी गई हैं। रणजीत सिंह ने ये भी कहा कि यदि मनमाने ढंग से उन्होंने वेदांता को क्लीनचिट दी गयी तो और व्यापक आंदोलन छेड़ा जायेगा।  

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार