बुलेट ट्रेन तेज गति और तेज प्रगति की परियोजना-पीएम मोदी

डीएन ब्यूरो

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन परियोजना के शिलन्यास के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि बुलेट ट्रेन तेज गति और तेज प्रगति की परियोजना है।

जनसभा को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी
जनसभा को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी

अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन परियोजना के शिलन्यास के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि बुलेट ट्रेन तेज गति और तेज प्रगति की परियोजना है। इससे देश को तेज रफ्तार के साथ-साथ रोजगार भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि जापान और भारत की दोस्ती काफी पुरानी है और बुलेट ट्रेन परियोजना इन रिश्तों में एक मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने 2022 तक बुलेट ट्रेन परियोजना पूरी होने की उम्मीद जताई।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी-शिंजो आबे ने बुलेट ट्रेन परियोजना का किया शिलान्यास

पीएम मोदी ने कहा कि आज के दौर में विकास सिर्फ उन्ही स्थानों पर हो सकता है जहां हाई स्पीड कोरिडोर का निमार्ण होगा। प्राचीन समय में नदी-घाटी के किनारे वाले क्षेत्र विकास का केंद्र हुआ करते थे। बाद के चरणों में विकास के केंद्र सड़कों और राजमार्गों को किनारे बसने लगे। लेकिन मौजूदा परिस्थिति में हाई स्पीड ट्रेन के साथ हाई स्पीड प्रगति के लिए बुलेट ट्रेन कोरिडोर जैसी परियोजनाओं का निमार्ण करना जरूरी हो गया है।

यह भी पढ़ें: बुलेट ट्रेन परियोजना से हजारों लोगों को मिलेगा रोजगारः पीयूष गोयल

पीएम मोदी ने कहा कि भले ही बुलेट ट्रेन टेक्नोलॉजी जापान से मिल रही है, लेकिन बुलेट ट्रेन के संसाधन भारत में ही बनेंगे। देश की कंपनियों को नया रोजगार मिलेगा और मेक इन इंडिया को बल मिलेगा। उन्होंने कहा कि जापान ने बुलेट ट्रेने के लिए 88 हजार करोड़ रुपए का लोन दिया, जिस पर 0.1 प्रतिशत ब्याज लिया जा रहा है। 

पीएम मोदी ने कहा कि भारत और जापान की दोस्ती सीमा और समय से परे है। उन्होंने कहा कि भारत और जापान की दोस्ती सीमा और समय से परे है। अगर आज इतने कम समय में इस योजना का भूमिपूजन हो रहा है तो इसका पूरा श्रेय शिंजो आबे को जाता है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?

हां
80.95%
नहीं
19.05%