पीएम मोदी के वाराणसी दौरे को लेकर जोरदार तैयारियां.. कल करेंगे कई योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास

डीएन संवाददाता

पीएम मोदी कल अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के 16वें दौरे पर आ रहे हैं, जहां वह अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान का उद्घाटन के साथ-साथ कई योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास करेंगे। डाइनामाइट न्यूज एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..


वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 दिसंबर को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के 16वें दौरे पर आ रहे हैं। इस दौरे पर पीएम मोदी लगभग 180 करोड़ रुपये लागत की 15 परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे, प्रशासन की ओर से इन परियोजनओं को तैयार करा दिया गया है। साथ ही पीएम मोदी चांदपुर स्‍थित अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान केंद्र का उद्घाटन करेंगे।  उनके दौरे से पहले की काशी में जोरदार तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। 

यह भी पढ़ें: वाराणसी दौरे के दूसरे दिन सीएम योगी ने अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान केंद्र का किया निरीक्षण 

वाराणसी के लोगों का कहना है कि जब देश के प्रधानमंत्री और वाराणसी के सांसद नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र में आते हैं तो आने से पहले हर एक चौराहों को और बैरिकेडिंग को रंग रोगन किया जाता है यह भी कहा जा सकता है कि जो चौराहे और जो बैरिकेडिंग धूल फांक रहे होते हैं उनके आते ही उसको दुरुस्त और रंग रोंगन करके सजाया जाता है।

यह भी पढ़ें: वाराणसी में सीएम योगी.. टेंट सिटी और विश्‍वनाथ कॉरिडोर का लिया जायजा 

अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान के जनरल मैनेजर मैथूल मोरेल ने पत्रकार वार्ता अयोजित कर इस संस्थान के विशेषता के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि यह संस्थान चावल के नए प्रजातियों की खोज कर किसानों को उपलब्ध कराएगा। साथ ही यहां पैदा होने वाली वैरायटियों को और अपग्रेड करेगा जिससे किसानों को अच्छी पैदावार मिल सके और उनकी मेडिशनल वैल्यू भी बनी रहे।

यह भी पढ़ें: वाराणसी: काशी विश्वनाथ कॉरिडोर ध्वस्तीकरण में निकले शिवलिंगों को नाले किनारे फेंका, लोगों में भारी आक्रोश 

उन्होंने कहा कि हम यहां सूखा और बाढ़ में भी अच्छी उपज देने वाली वैरायटी पर भी काम करेंगे जिससे सूखे में भी किसान किसान चावल से उपज ले सके। उन्होंने कहा कि यह सेंटर दक्षिण एशिया का पहला रीजनल सेंटर होगा। वो विश्व के अन्य देशों में भी चावल की नई बीजो को उपलब्ध कराएगा।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार