टीचर ने गाड़ियों के लिए बनाई अनोखी एंटी थैफ्ट डिवाइस...

डीएन संवाददाता

यूपी के सुल्तानपुर के एक टीचर ने टू व्हीलर और फोर व्हीलर गाडियों की सेफ्टी के लिए एक अनोखी एंटी थैफ्ट डिवाइस बनाई है। इस डिवाइस की ख़ास बात ये है कि यह डिवाइस न केवल वाहनों की चोरी को रोकेगी बल्कि ये डिवाइस महिलाओं और पुरुषों को सुरक्षा भी प्रदान करेगी।

एंटी थैफ्ट डिवाइस
एंटी थैफ्ट डिवाइस

सुल्तानपुर: यूपी के सुल्तानपुर के एक टीचर ने टू व्हीलर और फोर व्हीलर गाडियों की सेफ्टी के लिए चमत्कारिक डिवाइस बनाई है। इस डिवाइस की ख़ास बात ये है कि यह डिवाइस न केवल वाहनों की चोरी को रोकेगी बल्कि ये डिवाइस महिलाओं और पुरुषों को सुरक्षा भी प्रदान करेगी।

यह भी पढ़ें: सुल्तानपुर: विधायक देवमणि ने सुनी जन समस्याएं

चोरी की घटना से दुःखी होकर बनाई डिवाइस

यह चमत्कार कुड़वार थाने के सोहगौली कामापुर के रहने वाले राधेश्याम पांडे ने किया। राधेश्याम को बचपन से ही नए-नए बाइक के उपयोग की लालसा रहती थी। इस बीच गांव में ही उनके मित्रों की बाइक चोरी की घटना ने उन्हें इसका उपाय ढूँढ़ निकालने के लिए मजबूर कर दिया।

इसके बाद उन्होंने एक डिवाइस तैयार किया और बाइक में फिट किया। राधेश्याम बताते हैं कि इस डिवाइस को लगाकर बाइक और फोर व्हीलर को मोबाइल के जरिये स्टार्ट-बंद और लॉक किया जा सकता है। एक बार वाहन लॉक होने पर किसी भी चाभी से उसे खोला नहीं जा सकता, यहां तक कि बिना लॉक खोले खुद वाहन मालिक भी अपनी चाभी से इसे नही खोल सकता।

बाइक-फोर व्हीलर को टच करते ही मिल जाएगी इन्फार्मेशन

यही ही नहीं इस डिवाइस में सबसे बड़ी खास बात यह है कि अगर किसी ने बाइक या कार को टच भी किया तो यह डिवाइस फौरन ही वाहन मालिक को सूचित कर देगी। साथ ही वाहन मालिक के मोबाइल पर कॉल भी जाएगी। कॉल आते ही वाहन स्वामी को अपने वाहन की स्थिति का पता चल जाएगा। राधेश्याम बताते हैं के इस डिवाइस की कोई रेंज नही है, वाहन मालिक को कितनी भी दूरी पर मोबाइल से खबर मिल जाएगी। यही नहीं रस्सी या डंडे से छूने पर भी गाड़ी मालिक को इन्फार्म कर देगी।

यह भी पढ़ें: सुल्तानपुर में 20 लीटर कच्ची शराब के साथ 2 गिरफ्तार

डिवाइस का अहम पहलू

इस डिवाइस का सबसे अहम पहलू यह है कि सुरक्षा के साथ-साथ बाइक और कार सवार महिलाओं के साथ होने वाली छेड़खानी से भी ये डिवाइस बचाएगी। यदि वाहन मालिक को वाहन का पीछा किये जाने का शक हो जाए तो वो हैंडिल के पास लगे स्विच को दबा देगा। इससे कॉल महिला हेल्पलाइन 1090 और पुलिस के 100 नम्बर पर चली जाएगी, फिर बिना हाथों के इस्तेमाल या मोबाइल का उपयोग किये वाहन मालिक बोलकर पुलिस को अपनी स्थिति से अवगत करा सकता है। इस तरह पीछा करने वाला कुछ जान भी नही पायेगा और आसानी से वारदात को अंजाम देने के फिराक में लगा बदमाश पुलिस के हाथ लग जाएगा।

मोबाइल से संचालित होने वाली यह एंटी थेफ्ट डिवाइस अपने आप में अनोखी पद्धति है। और इस डिवाइस के गाड़ी में लगे होने पर गाड़ी का गायब करना संभव नहीं है। राधेश्याम कहते हैं के अगर शासन-प्रशासन उसकी मदद करे तो वह देश को एक से एक चमत्कारिक तकनीकों से भर देगें।

इस डिवाइस को तैयार करने वाले राधेश्याम एक मध्यम परिवार में निवास करते हैं। खुद इनका आलम ये है के आर्ट साइड के स्टूडेंट होते हुए एमए पास तक की पढ़ाई की। जबकि इनके पिता भुवनेश्वर प्रसाद पांडे एक इंटर कालेज में भूगोल के प्रवक्ता हैं और मां हाउस वाइफ। बड़े भाई स्कूल में टीचर और एक बहन है जो अभी पढ़ रही है। लेकिन घर के होनहार इस बेटे पर सभी को नाज़ है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …