प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह के भाषणों पर कार्रवाई के लिए चुनाव आयोग को निर्देश देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

डीएन ब्यूरो

कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह के कथित घृणास्‍पद बयान को लेकर चुनाव आयोग को उचित कार्रवाई करने का निर्देश देने की मांग की थी। आज इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कांग्रेस की शिकायतों का चुनाव आयोग निपटारा कर चुका है। चुनाव आयोग के क्‍लीनचिट पर दखल नहीं दे सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह

नई दिल्‍ली: सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह के खिलाफ आचार संहिता उल्‍लंघन संबंधी शिकायतों को लेकर चुनाव आयोग को किसी तरह का निर्देश नहीं जारी करने का फरमान सुनाया है। इसके लिए कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने याचिका दाखिल की थी। याचिका में चुनाव आयोग पर आरोप लगाते हुए कहा था कि वह प्रधानमंत्री और अमित शाह पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

यह भी पढ़ें: पुलिसिया तांडव ने ब्रिटिश अत्याचार को छोड़ा पीछे, 250 ग्रामीणों पर फर्जी मुकदमा, वर्दी के खौफ से दहशत में आये गांव वाले पलायन को हुए मजबूर

 इसी दौरान सुष्‍मिता देव के वकील और वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट में कहा, चुनाव आयोग ने शिकायतों का निपटारा कर दिया है लेकिन मामला यहीं खत्‍म नहीं होता है। सुप्रीम कोर्ट को मामले को विस्‍तार से देखते हुए नए निर्देश जारी करने चाहिए। 

यह भी पढ़ें: महराजगंज में सरकारी दफ्तरों की धूल भरी फाइलों में होता रहा विकास, 'माननीयों' से चुनाव दर चुनाव छले जाते रहे सिसवा के मतदाता

इस पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई करने वाली बेंच ने कहा कि चुनाव आयोग ने इस मामले में फैसला कर दिया है। इसलिए याचिका बेअसर हो जाती है और इसे खारिज किया जाता है। अगर आपको चुनाव आयोग के फैसले पर आपत्ति है तो नई याचिका दायर की जा सकती है। 

यह भी पढ़ें: तृणमूल कांग्रेस के पक्ष में बांग्‍लादेशी कलाकारों का रोड शो, गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

वहीं चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट को अपने जवाब में कहा था कि हमारे पास जो शिकायत आई है वह कांग्रेस के नाम पर आई थी न कि सुष्मिता देव के नाम से। 

कोर्ट ने बीते मंगलवार को सुष्मिता को चुनाव आयोग के फैसलों का रिकॉर्ड दाखिल करने की अनुमति दी थी।

यह भी पढ़ें: चुनाव प्रचार पर रोक के बाद भी सीएम योगी ने ‘बजरंगबली’ मंदिर में किया हनुमान चालीसा पाठ

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …