योगी सरकार का बड़ा कदम, 1984 के सिख विरोधी दंगों की जांच के लिए SIT गठित

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के कानपुर में 1984 में हुए सिख विरोधी दंगों को लेकर प्रदेश की सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। योगी सरकार ने बुधवार को सिख दंगों की जांच कराने का आदेश दिया है। पढ़िए डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट...

फाइल फोटो
फाइल फोटो

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के कानपुर में 1984 में हुए सिख विरोधी दंगों को लेकर प्रदेश की सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। योगी सरकार ने बुधवार को सिख दंगों की जांच कराने का आदेश दिया है। वहीं इसके लिए एसआईटी का गठन किया गया है। एसआईटी की अगुवाई पूर्व डीजी अतुल करेंगे।

यह भी पढ़ें: यूपी सरकार के 40 लाख कर्मचारियों की आज से ‘महा हड़ताल’, धारा 144 लागू


इस एसआईटी में पूर्व डीजी अतुल के अलावा रिटायर्ड जज सुभाषचंद्र अग्रवाल, रिटायर्ड एडी अभियोजन योगेश्वर कृष्ण श्रीवास्तव के साथ एक एसएसपी और एसपी को भी सचिव के तौर पर शामिल किया गया है।

यह भी पढ़ें: लखनऊ: डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने 'मेरा पहला वोट मोदी को' अभियान को दिखाई हरी झंडी

पढ़ें क्या है पूरा मामला

बता दें कि 1984 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या उनके दो सिख अंगरक्षकों द्वारा की गई थी। जिसके बाद दिल्ली और कानपुर समेत देश के कई हिस्सों में सिख विरोधी दंगे हुए थे। पूर्व प्रधानमंत्री की हत्या सिखों द्वारा किये जाने के बाद इसका गुस्सा सिखों पर उतारा गया था। दिल्ली के बाद सबसे भयंकर हिंसा कानपुर में ही हुई थी। इस हिंसा से कानपुर में 127 सिख मारे गए थे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार