नोएडा: PMO और BJP के नाम पर धन उगाही करने वाला फर्जी IPS गिरफ्तार

डीएन ब्यूरो

PMO में तैनाती और भाजपा में बड़े पद का धौंस दिखाकर धन उगाही करने वाले फर्जी IPS समेत दो को गिरफ्तार किया गया है। इन दो ठगों ने अफसरों तक को नहीं बख्‍शा। पुलिस और क्षेत्र स्‍तर के अधिकारियों को निशाना बनाते थे। डाइनामाइट न्‍यूज़ पर पढ़ें पूरी खबर..

पुलिस कस्‍टडी में फर्जी IPS गौरव व आशुतोष
पुलिस कस्‍टडी में फर्जी IPS गौरव व आशुतोष

नोएडा: प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) में तैनाती व पश्चिम बंगाल कैडर का सीनियर IPS अधिकारी बताने वाला गौरव मिश्रा और उसके साले आशुतोष राठी जो खुद को सुनील बंसल BJP यूपी का महासचिव (संगठन) बताता था, को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। हैरानी की बात यह है कि उसके झांसे में केवल आम लोग ही नहीं बल्कि पुलिस और क्षेत्राधिकारी स्‍तर के अधिकारी भी फंस जाते थे।

मूल रूप से शंकरगढ़ प्रयागराज का रहने वाला गौरव अपनी पत्‍नी को वरिष्‍ठ IAS अधिकारी बताता था। इसी रुतबे को दिखाकर उसने कई अधिकारियों से अपनी सांठगांठ कर ली थी। जब भी उसे कहीं से भी कोई ट्रांसफार पोस्टिंग या किसी भी अन्‍य तरह का काम मिलता तो वह इन्‍हीं अधिकारियों की मदद लेता था। कई बार दूसरे अधिकारियों का नाम लेकर दबाव बनाकर काम निकलवा लेता था। जिसके बदले में वह तगड़ी रकम वसूलता था। 

क्‍या बोले अधिकारी

मेरठ रेंज के आईजी आलोक सिंह ने डाइनामाइट न्‍यूज़ को बताया कि उसने आशुतोष राठी मूलरूप से मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना का रहने वाला है। हालांकि अभी दोनों ही गाजियाबाद के राजनगर एक्‍सटेंशन में एक फ्लैट में रह रहे थे। दोनों के खिलाफ नोएडा के सेक्‍टर 20 में 26 जुलाई को एक भाजपा नेता राजीव शर्मा ने FIR दर्ज कराई थी। दोनों को सेक्‍टर 18 मेट्रो स्‍टेशन के पास से गिरफ्तार किया गया है।

उससे पूछताछ में यह भी पता चला है कि दोनों ने पिछले पांच-छह माह में अफसरों पर दबाव बनवाकर कईयों के काम करवाए हैं। जिनसे दोनों ने तकरीबन 10 लाख रुपये भी ठगे हैं। 

पहले भी जा चुका है जेल

गौरव मिश्रा को इससे पहले नोएडा पुलिस 2012 और 2018 में जेल भेज चुकी है।













संबंधित समाचार