नेपाल ने भारतीय फल सब्जियों पर लगाई रोक, बार्डर पर सब्जी लदी ट्रकों का लगी लंबी लाइन

डीएन ब्यूरो

नेपाल सरकार ने बीते दिनों एक अध्यादेश जारी कर भारतीय फल और सब्जियों के आयात पर रोक लगा दी है। जिससे महराजगंज की भारत नेपाल की सोनौली सीमा पर सैकड़ो फलो और सब्जियों से लदी गाड़ियों की लंबी लाइन लग गई है। इससे व्यापारियों में गुस्सा है, इस फैसले से व्यापारियों को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की खास खबर..


महराजगंज: नेपाल सरकार ने बीते दिनों एक अध्यादेश जारी कर भारतीय फल और सब्जियों के आयात पर रोक लगा दी है। जिससे महराजगंज की भारत नेपाल की सोनौली सीमा पर सैकड़ो फलो और सब्जियों से लदी गाड़ियों की लंबी लाइन लग गई है। नेपाल सरकार के इस आकस्मिक एलान से कच्चे माल के सड़ने की आशंका में कई लोग सीमा पर ही अपने फलो और सब्जियों को औने पौने दाम पर बेचने को मजबूर हो गए तो कई अभी भी नेपाली अधिकारियों से हरी झंडी के इंतजार में कतार में खड़े है। 

ट्रकों का लगा जमावड़ा

वहीं सीमा पर इस समस्या को देखते हुए यहां के आधिकरियों ने अपने उच्च आधिकरियों को अवगत करा दिया है और जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान होने की बात कही है।
 भारत नेपाल की सोनौली सीमा पर फलो और सब्जियों से लदी ये गाड़ियां नेपाल सरकार द्वारा जारी एक फरमान के बाद बीते पांच दिनों से खड़ी है। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ: डायल-100 की गाड़ियों से गूंजा ' जागते रहो' का सायरन

जानकारी के मुताबिक नेपाल सरकार का मानना है कि भारत से नेपाल आने वाली सब्जियों और फलो में भारी पैमाने पर कीटनाशको का प्रयोग किया जा रहा है। जिससे उनके नागरिकों पर उसके इस्तेमाल से बुरा प्रभाव पड़ रहा है और लोग बीमार हो रहे है। ऐसे में भारत से नेपाल आने वाले फलो व सब्जियों की काठमांडु में स्थित उनके लैब में जांच के बाद ही मानक पर खरा उतरने के बाद ही ऐसे सामानों को नेपाल में लाने की अनुमति दी जाएगी। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ: यूपी कैबिनेट में मुख्यमंत्री आवास योजना के बारे में हुआ बड़ा फैसला

व्यापारियों की मांग है कि सीमा पर ही ऐसे लैब की स्थापना की जाए जिससे उनकी फलों एवं सब्जियों की जांच हो सके। बीते पांच दिनों से बॉर्डर पर खड़े फल एवं सब्जी व्यापारियों में ज्यादातर लोग अपने माल को औने पौने दाम पर ही सीमा पर बेच कर निकल गए है। वही अब ट्रक चालकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि अब उनके पास पैसे भी धीरे धीरे खत्म हो रहा है और ट्रक में सब्जियां और फल फसे हुए है।

इस पूरे मामले में अधिकारियों का कहना है कि नेपाल में बीते 17 जून को जो गजट हुआ उसमें ये फैसला लिया गया कि बिना चिकित्सा जांच के भारत से सब्जियां और फल नही लिया जाएगा जिसके बाद नेपाल सरकार से भारतीय ट्रक वापस किया जाने लगा जिसके बाद इसकी सूचना भारतीय उच्चाधिकारियों को दी गई है । नेपाल के अधिकारियों से इस संबंध में बातचीत की जा रही है और जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान किया जाएगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार