Holi Facts: यहां खेली जाती है कीचड़ की होली, जानें क्या है इसकी वजह

डीएन ब्यूरो

भारतीय संस्कृति का एक ऐसा त्योहार जिसका नाम आते ही आंखों के सामने सात रंगों की छटा उभरने लगती है । जैसे रंगीला यह त्योहार है उतने ही तरीकों से देशभर में और दुनिया के दूसरे हिस्सों में जहां भारतीय लोग मौजूद हैं यह मनाया भी जाता है। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..

होली खेलती महिलाएं (फाइल फोटो)
होली खेलती महिलाएं (फाइल फोटो)

बुंदेलखंडः ऐतिहासिक रूप से होली की उदगमस्थली माने जाने वाले बुंदेलखंड की धरती पर होली जलने के पहले दिन कीचड़ की होली खेलने का चलन है और इसके बाद दौज से रंगों की होली शुरू होती है जो रंगपंचमी तक चलती है। रंग बिरंगे इस त्योहार का उदगम स्थल ऐतिहासिक और पौराणिक रूप से बुंदेलखंड की ह्रदयस्थली झांसी जिला मुख्यालय से 80 किलोमीटर की दूरी पर बामौर विकासखंड में स्थित “ एरच धाम” को माना जाता है।

यह भी पढ़ेंः Home Remedies- होली के पक्के रंगों से बालों की इस तरह करें सुरक्षा, नहीं होगा नुकसान

होली का त्योहार भक्त प्रहलाद से जुड़ा है और श्रीमद् भागवत पुराण में सतयुग में भक्त प्रह्लाद का प्रसंग आता है जिसमें बताया गया है कि हिरण्याक्ष और हिरण्यकश्यप दो राक्षस भाई थे, इनकी राजधानी एरिकेच्छ थी जो अब परिवर्तित होकर एरच हो गया। एरच जिला मुख्यालय से करीब 80 किमी की दूरी पर बामौर विकासखण्ड में स्थित है। कथा में बताया जाता है कि जब पृथ्वी का हरण कर उसे पाताल लोक में हिरण्याक्ष ले जा रहा था, तब भगवान विष्णु ने वाराह अवतार में आकर हिरण्याक्ष का वध किया था। इस तरह भगवान ने पृथ्वी की रक्षा कर उसे वापस स्थान पर रख दिया था। तब से हिरण्याक्ष का भाई हिरण्यकश्यप भगवान विष्णु को अपना सबसे बड़ा दुश्मन समझने लगा था। 

यह भी पढ़ेंः Health Tips- होली पर गर्भवती महिलाएं इस तरह रखें अपना ख्याल, नहीं तो पड़ेगा पछताना

हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रह्लाद हुआ। उसका पालन पोषण मुनि आश्रम में होने के कारण वह बालक विष्णु भक्त हो गया। यह बात उसके पिता को बर्दाश्त नहीं हुई और उसने अपने पुत्र को तरह-तरह की यातनाएं देकर विष्णु की भक्ति से अलग करना चाहा लेकिन ऐसा हुआ नहीं। इसके बाद राक्षसराज अपने पुत्र को मारने के तमाम तरीके अपनाए, जब वह सबमें नाकाम रहा तो उसने अपनी बहन होलिका को यह काम सौंपा। होलिका को वरदान था कि वह जलती आग में बैठ जाएगी तो भी उसे आग की लपटें छू नहीं सकती थी।

प्रह्लाद को उसके हवाले कर दिया गया और होलिका प्रह्लाद की हत्या करने के लिए उसे गोद में लेकर आग में बैठ गयी लेकिन प्रभु इच्छा के चलते प्रह्लाद के स्थान पर होलिका ही जल गई। यह देख अत्यंत क्रोधित हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को मारने के लिए तलवार उठाई तो तलवार एक खंभे मे जा लगी और नरसिंह रुप में भगवान विष्णु प्रकट हो गए। उन्होंने हिरण्यकश्यप का वध कर दिया। अपने राजा का वध होते देख हजारों राक्षसों उत्पात मचाना शुरु कर दिया, और नरसिंह भगवान को घेर लिया। नरसिंह जी ने उन सभी का भी वध कर दिया। तब से इस राक्षसी उपद्रव को कीचड़ की होली के रूप में बुंदेलखंड में मनाया जाता है।








संबंधित समाचार