#MeToo का शिकार बने एमजे अकबर, मंत्री पद से दिया इस्तीफा

डीएन ब्यूरो

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने आखिरकार मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। एमजे अकबर पर लगभग 17 महिलाएं सोशल मीडिया पर चल रहे #MeToo अभियान के तहत यौन शोषण के आरोप लगा चुकी है। डाइनामाइट न्यूज़ की इस रिपोर्ट में पढ़ें, अपने इस्तीफे में क्या लिखा एमजे अकबर ने...

एमजे अकबर (फाइल फोटो)
एमजे अकबर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर चल रहे #MeToo अभियान के तहत यौन शोषण के आरोपों का सामना कर रहे केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने आखिरकार मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। एमजे अकबर पर लगभग 17 महिलाओं ने सोशल मीडिया पर यौन शोषण के आरोप लगाये हैं। 

यह भी पढ़ें: #MeToo: एम जे अकबर ने पत्रकार प्रिया रमाणी पर दायर किया मानहानि का केस 

एमजे अकबर का इस्तीफा

यौन शोषण के आरोपों से घिरे एमजे अकबर पर लगातार इस्तीफे का दबाव बन रहा था। रविवार को अपने विदेश दौरे से भारत तौटने पर  अकबर ने बयान जारी कर आरोपों के निराधर और बेबुनियाद बताया। उन्होंने आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ दिल्ले पटियाला हाउस कोर्ट में मानहानि का केस भी दायर किया है। इसके बाद भी एक अन्य महिला ने भी अकबर पर आरोप लगाये।

यह भी पढ़ें: #MeToo: यौन शोषण के आरोपों से घिरे एमजे अकबर ने विदेश से लौटकर दिया ये बयान

एमजे अकबर पर सबसे पहले पत्रकार प्रिया रमानी ने अखबार में काम करते समय उनके पर अनुचित व्यवहार और यौन शोषण के आरोप लगाये। इसके बाद कई अन्य महिलाएं ने भी अकबर पर इसी तरह के आरोप लगाये। 67 वर्षीय अकबर अंग्रेजी अखबार ‘एशियन एज’ में भी संपादक रह चुके हैं। इसके अलावा वह अन्य कई पत्र-पत्रिताओं का भी संपादन कर चुके हैं। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार