मायावती का भाजपा पर हमला.. दलित विरोधी मानसिकता के चलते गेस्ट हाऊस कांड के जिम्मेदार आईपीएस को बनाया डीजीपी

डीएन संवाददाता

राज्यसभा चुनाव में हार के बाद शुक्रवार को बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने लखनऊ में बीजेपी पर जमकर निशाना साधा औऱ कहा कि भाजपा ने दलित विरोधी मानसिकता के तहत स्टेट गेस्ट हाऊस कांड की घटना के जिम्मेदार आईपीएस को राज्य का डीजीपी बनाकर अपनी दलित विरोधी मानसिकता को उजाकर कर दिया है। पूरी खबर..


लखनऊ: राज्यसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद शुक्रवार को  बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने आवास पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने बीजेपी सरकार पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि भाजपा ने दलित विरोधी मानसिकता के तहत स्टेट गेस्ट हाऊस कांड की घटना के जिम्मेदार आईपीएस को राज्य का डीजीपी बनाकर अपनी दलित विरोधी मानसिकता को उजाकर कर दिया है। 

राजा भैया को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव को इस मुद्दे पर गंभीरता से विचार करना चाहिए और इस मुद्दे पर एक्शन लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि अखिलेश भाजपा द्वारा बिछाई गई बिसात को भली प्रकार समझ नहीं पाये, इसी का नतीजा है कि बसपा प्रत्याशी भीमराव अंबेडकर की हार का सामना करना पड़ा है। 

इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर निशाने साधते हुए कहा कि बसपा प्रत्याशी को चुनाव हराने के लिए मजबूत किलेबंदी करना इस बात का सबूत है कि भाजपा दलित वर्ग के हमेशा से खिलाफ रही है। वहीं उन्होंने इस मौके पर कांग्रेस के सभी सातों विधायकों द्वारा बसपा प्रत्याशी को वोट दिए जाने पर कांग्रेस नेतृत्व का आभार जताया।

वहीं इस दौरान गेस्ट हाउस विवाद पर बोलते उन्होंने कहा कि जब गेस्ट हाउस कांड हुआ था, उस समय अखिलेश यादव का राजनीति से दूर-दूर तक वास्ता नही था। जिस वजह से वो अखिलेश को गेस्ट हाउस कांड जैसी दुखद घटना के लिए जिम्मेदार नहीं मानती हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा चाहती है कि किसी भी तरह सपा और बसपा का गठबंधन टूट जाये लेकिन भाजपा की ये चाल सफल नही होने वाली।

गोरखपुर और फूलपुर में सपा प्रत्याशी के जीतने पर कहा कि वह लोकसभा का चुनाव था। जिसमें जनता ने सीधे वोट दिया था। यदि राज्यसभा प्रत्याशी का चुनाव भी जनता द्वारा सीधे किया जाता तो नतीजे भाजपा की सोच के विपरीत होते।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार