महराजगंज: घूस लेते लेखपाल का वीडियो वायरल, एसडीएम ने तत्काल प्रभाव से किया निलंबित

डीएन ब्यूरो

प्रदेश सरकार भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के सख्त निर्देशों के बावजूद महराजगंज जिले के निचलौल तहसील में एक लेखपाल के रिश्वतखोरी का वीडियो वायरल हो रहा है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में देखें रिश्वतखोर लेखपाल का वायरल वीडियो..


महराजगंज: प्रदेश सरकार की तरफ से भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने का भरपूर प्रयास किया जा रहा है, मगर सरकार द्वारा भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के सख्त निर्देशों के बावजूद सरकारी कर्मचारियों के कान पर जूं नहीं रेंग रहा है। इसी क्रम में ताज़ा मामला महराजगंज जिले के निचलौल तहसील का है, जहां एक लेखपाल के रिश्वतखोरी का वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो के वायरल होने के बाद वहां के नवनियुक्त एसडीएम मदन कुमार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए लेखपाल को निलम्बित कर दिया है। निचलौल तहसील अंतर्गत ग्राम गिरहिया में तैनात लेखपाल गजेंद्र भारती अपनी चार पहिया वाहन से गाँव पहुँच कर लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए धन उगाही करते नजर आ रहे है।

यह भी पढ़ें: हैलो.. मैं डा. अजय पाल शर्मा की गर्लफ्रैंड बोल रही हूं!

इस बारे में ग्रामीण रवि ने बताया कि ग्रामीणों ने लेखपाल के झाँसे में आकर किसान सम्मान योजना का फॉर्म भरने के नाम पर इनके माँगे मुताबिक लेखपाल गजेंद्र भारती को धन दे दिया। वायरल हुए इस वीडियो में लेखपाल को पैसे सौंपते वक्त महिलाएं अपना दर्द बयां करते हुए बोल रही है कि वो लोग बहुत गरीब है, उन लोगों का पूरा फसल बर्बाद हो गया है। लेकिन दूसरों के दुख को अनसुना करते हुए लेखपाल उनलोगों से मनमानी रकम वसूल कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: क्या महिला पत्रकार के चक्कर में अजय पाल शर्मा की हुई एसएसपी नोएडा के पद से छुट्टी?

इतना ही नहीं डाइनामाइट न्यूज़ के सामने आया कि गजेंद्र ने गिरहिया निवासी ग्रामीणों से सरकारी बंजर भूमि पट्टा करने के नाम पर किसी से 10 हजार तो किसी से 20 हजार रुपये ऐंठा था। ग्रामीणों ने बताया कि गिरहिया प्रधान (श्रीकांत) ने भी इसमें हामी भरी थी, जिसकी वजह से इन ग्रामीणों को लेखपाल की बातों पर विश्वास हो गया था, लेकिन 2 महीना बीतने के बाद भी जब ग्रामीणों को भूमि नहीं मिली, तो वो लोग खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। इसके बाद ग्रामीणों ने इसकी शिकायत निचलौल एसडीएम मदन कुमार से की तो वायरल वीडियो की जाँच पड़ताल के बाद लेखपाल पर कार्यवाही करने की बात कही।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार