महराजगंज: सपा नेता के घर से पुलिस ने उठायी सफेद स्कार्पियो.. चर्चाओं का बाजार गर्म, एएसपी ने कहा- मुझे कुछ नही पता

शिवेन्द्र चतुर्वेदी/आशीष सोनी

जिले में पुलिस का अजीबो-गरीब हाल है। बिना नंबर वाली एक सफेद स्कार्पियो को कोतवाल रामदवन मौर्य उठाकर कोतवाली में खड़ा किये हैं। इसको लेकर जिले भर में चर्चाओं का बाजार गर्म है कि आखिर किसकी है यह गाड़ी? क्या है गाड़ी का रहस्य? पुलिस ने क्यों पकड़ी है गाड़ी? इन सब सवालों पर जब अपर पुलिस अधीक्षक आशुतोष शुक्ला से जवाब मांगा गया तो वे बिल्कुल अंजान बनते हुए नजर आय़े और कहने लगे मुझे कोई जानकारी नही, पता करके बताता हूं। डाइनामाइट न्यूज़ एक्सक्लूसिव..


महराजगंज: सदर कोतवाली में खड़ी बिना नंबर वाली एक सफेद स्कॉर्पियो का रहस्य गहराता जा रहा है। पुलिस इस मामले पर कुछ भी बोलने को तैयार नही है। 

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव से पहले एसपी ने किया पुलिस महकमे में फेरबदल, बड़े पैमाने पर चौकी इंचार्जों का तबादला

डाइनामाइट न्यूज़ को मिली जानकारी के मुताबिक सपा के एक नेता और जिला पंचायत सदस्य के घर से कोतवाल रामदवन मौर्य ने किसी की शिकायत पर बिना नंबर वाली एक सफेद स्कार्पियो को बरामद किया है। अब ये गाड़ी सदर कोतवाली में खड़ी है। 

यह भी पढ़ें: अमित शाह यूपी के दौरे पर.. देखिये कैसे सरकारी पैसे से छपते हैं विज्ञापन और डीएम करते हैं स्वागत..

गाड़ी क्यों पकड़ी गयी है.. किसकी है ये गाड़ी.. इस सवाल का जवाब जिले के पुलिस महकमे का कोई भी जिम्मेदार अफसर देने को तैयार नही है। इस बारे में जब डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता ने अपर पुलिस अधीक्षक आशुतोष शुक्ला से जवाब मांगा गया तो वे बिल्कुल अंजान बनते हुए नजर आय़े और कहने लगे मुझे कोई जानकारी नही, पता करके बताता हूं। कोतवाली परिसर में खड़ी स्कॉर्पियो के आगे पीछे दोनों ही तरफ नंबर प्लेट नहीं लगी है। 

अंदर की खबर ये है कि मामला जिला पंचायत के सदस्य से जुड़ा होने की वजह से जिला पंचायत की राजनीति में खासा दखल रखने वाले एक प्रमुख सत्ताधारी नेता की कृपा से मामले को मैनेज करने का प्रयास तेजी से चल रहा है। यही वजह है कि पुलिस इस मामले में अंजान बनने की कोशिश कर रही है। फिलहाल जिले भर में इस मामले को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं गर्म हैं। कोई इसे बिहार के किसी गैंग से जोड़कर देख रहा है तो कोई लेन-देन के विवाद में गाड़ी उठाने की बात कह रहा है। अब ऐसे में सबकी निगाहें पुलिस महकमे के आला अफसरों पर टिक गयी हैं कि देर-सवेर ही सही वे ही इस मामले पर सही तस्वीर स्पष्ट करेंगे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार